नई दिल्ली : हाथरस गैंगरेप पीड़िता के परिवार का बयान दर्ज करने के लिए रविवार को एक बार फिर एसआईटी के सदस्य पहुंचे, वहीं कई राजनीतिक दलों के नेता भी पीड़ित परिवार से मिलने पहुंच रहे हैं, इस बीच, हाथरस में पंचायत भी बुलाई गई. यह पंचायत बीजेपी के पूर्व विधायक राजवीर सिंह पलहवान के यहां आयोजित की गई है, पंचायत में कहा गया कि योगी सरकार ने जांच के जो आदेश दिए उससे निष्पक्ष छानबीन होगी, राजवीर सिंह पहलवान ने कहा कि जिस दिन से ये प्रकरण हुआ है उसके बाद से इसे झूठे तरीके से प्रसारित किया है कि बलात्कार हुआ वो बिल्कुल गलत है. 

राजवीर सिंह ने कहा कि हमने राज्य सरकार से कहा कि दूध का दूध और पानी का पानी सामने आए, इसके लिए सबका नार्को टेस्ट होना चाहिए, सीबीआई जांच का आदेश होना चाहिए, हमने ये राज्य सरकार से मांग की थी, राज्य सरकार ने सीबीआई और नार्को टेस्ट के आदेश कर दिये, पंचायत में जुटे लोग प्रदेश सरकार के फैसले से संतुष्ट हैं, ये लोग प्रदेश सरकार को धन्यवाद देने के लिए यहां एकत्रित हुए हैं.  राजवीर सिंह ने कहा कि 14 सितंबर को लड़की और उसके भाई थाने में लिखकर देकर आए थे कि उनके साथ छोटा मोटा मामला हुआ है लेकिन मीडिया ने ये नहीं दिखाया, मीडिया और अन्य राजनीतिक दलों के लोगों ने परिजनों को भड़काया और तीन दिन बाद बयान बदलवाया गया, हर तीन दिन बाद बयान बदलते रहे और टीआरपी के लिए चलाते रहे, वहीं पीड़िता के गैंगरेप के आरोपों को राजवीर सिंह ने खारिज किया, उन्होंने कहा कि दलितों की बेटी को पीटने की झूठी बात फैलाकर हाथरस को बदनाम किया गया है.

देश दुनिया की अहम खबरें अब सीधे आप के स्मार्टफोन पर TheHindNews Android App

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here