शमशाद रज़ा अंसारी

देश की राजधानी दिल्ली से सटे ग़ाज़ियाबाद में बरसात शुरू होते ही नगर निगम के बरसात की तैयारियों के दावों की पोल खुलनी शुरू हो जाती है। हर वर्ष वर्ष के कारण नालों/जलभराव में डूबने के कारण बच्चों की मौतें होती हैं। लेकिन नगर निगम अपनी कुम्भकर्णी नींद से नही जागता है। शहर में हुये जलभराव को देखकर ऐसा प्रतीत होता है कि नगर निगम द्वारा बरसात से निपटने की तैयारी केवल कागजों तक ही सीमित है। भ्र्ष्टाचार में आकंठ डूबा हुए नगर निगम पर अब किसी मासूम की मौत का कोई असर नही पड़ता। नगर निगम के अधिकारियों को न किसी मासूम की ज़िन्दगी की चिंता है और न किसी माँ की गोद उजड़ने की फ़िक्र। नगर निगम की ऐसी ही लापरवाही की कीमत एक मासूम को अपनी जान देकर चुकानी पड़ी।

देश दुनिया की अहम खबरें अब सीधे आप के स्मार्टफोन पर TheHindNews Android App

ग़ाज़ियाबाद में हुई भारी बारिश के बाद गौशाला अंडरपास में भरे पानी में डूबने से एक किशोर की मौत हो गयी। स्थानीय निवासियों की मदद से शव को पानी से बाहर निकाला गया। पुलिस ने शव को क़ब्ज़े में लेकर पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया।

मामले की जानकारी देते हुए क्षेत्राधिकारी प्रथम अभय कुमार मिश्र ने बताया कि बारिश के कारण गौशाला अंडरपास में पानी भरा हुआ था। जिसमें कुछ बच्चे खेल रहे थे। अचानक ही उनमें से दो किशोर डूबने लगे। आसपास के लोगों के द्वारा उनमें से एक को बचा लिया गया। जबकि दूसरे ने दम तोड़ दिया। इसकी सूचना मिलते ही पुलिस मौके पर पहुंची और मृतक के शव को कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया गया है। मृतक के साथी ने बताया कि मृतक अर्जुन कबाड़ा बीनने का कार्य करता था।

आपको बता दें कि गौशाला अंडरपास में हल्की से बारिश होने से भी जलभराव हो जाता है। ज्यादा पानी भरने से बच्चे वहाँ तैरते रहते हैं। शुक्रवार को हुई भारी बारिश से अंडरपास लबालब हो गया। पानी भरने से कुछ बच्चे वहाँ तैरने लगे। इसी दौरान दो बच्चे डूबने लगे। इनमें से एक बच्चे को तो वहाँ उपस्थित लोगों ने बचा लिया लेकिन दूसरे किशोर की मौत हो गयी।

प्रत्यक्षदर्शियों ने बताया कि अक्सर यहां थोड़ी सी बारिश में ही जलभराव हो जाता है। आस पास की कॉलोनी का पानी और सड़क का पानी अंडरपास में ही जमा हो जाता है। अक्सर नगर निगम के कर्मचारी अंडरपास में भरे पानी को निकालते रहते हैं। लेकिन आज कोई भी कर्मचारी पानी निकालने नहीं पहुंचा। जिसके कारण जलभराव ज्यादा हो गया। इसी दौरान कुछ बच्चे पानी में खेल रहे थे। इनमें से करीब 17–18 साल के दो किशोर जिन्हें तैरना नहीं आता था। दोनों ही पानी में डूबने लगे। उन्हें आसपास केे लोगों ने बचाने का प्रयास किया। उनमें से एक को बचा लिया गया। जबकि दूसरे को बचाने में कामयाब नहीं हो पाए।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here