प्रयागराज (यूपी) : फिल्म अभिनेत्री कंगना रनौत को इस मुश्किल वक्त में साधु-संतों की सबसे बड़ी संस्था अखिल भारतीय अखाड़ा परिषद का समर्थन मिला है. अखाड़ा परिषद ने कंगना को देश की बेटी बताते हुए उसे न सिर्फ अपना आशीर्वाद दिया है, बल्कि खुलकर उसका समर्थन करने का भी एलान किया है.

बेटी कंगना बन सकती हैं भविष्य में महाराष्ट्र की सीएम

देश दुनिया की अहम खबरें अब सीधे आप के स्मार्टफोन पर TheHindNews Android App

अखाड़ा परिषद के अध्यक्ष महंत नरेंद्र गिरि का कहना है कि कंगना बहादुरी से अपनी लड़ाई लड़ रही हैं और उन्हें जिस तरह का समर्थन मिल रहा है, उससे वो आने वाले दिनों में महाराष्ट्र की सीएम भी हो सकती हैं. उनके मुताबिक कंगना सच की राह पर चलते हुए बहादुरी से लड़ रही हैं, इसलिए साधु-संत इस बारे में उसे अपना आशीर्वाद दे रहे हैं.

महंत नरेंद्र गिरि के मुताबिक राम राज्य का सपना दिखाने वाले उद्धव ठाकरे के राज में कंगना के साथ जो सलूक किया गया, वो रावण राज्य की निशानी की तरह है. महंत नरेंद्र गिरि का कहना है कि कंगना के मामले में ठाकरे सरकार ने गलत किया. कंगना ने हमेशा फिल्म इंडस्ट्री में हो रहे गलत कामों का विरोध किया है, इसलिए लोग उन्हें निशाना बना रहे हैं.

धार्मिक स्थल पर जाने से नहीं रोका जा सकता

महाराष्ट्र के सीएम उद्धव ठाकरे को अयोध्या आने से रोकने के हनुमानगढ़ी के महंत राजू दास के बयान से साधु-संतों की सबसे बड़ी संस्था अखिल भारतीय अखाड़ा परिषद कतई सहमत नहीं है. अखाड़ा परिषद के अध्यक्ष महंत नरेंद्र गिरि का कहना है कि नाराजगी अपनी जगह है, लेकिन किसी को भी धार्मिक स्थल पर जाने से नहीं रोका जा सकता. ये सरासर गलत है.

उद्धव ठाकरे के खिलाफ जताई नाराजगी

महंत नरेंद्र गिरि के मुताबिक महाराष्ट्र के पालघर में दो साधुओं की हत्या का मामला हो या फिर सुशांत सिंह राजपूत की मौत या फिर कंगना का दफ्तर तोड़े जाने का मामला. इन सभी मामलों में उद्धव ठाकरे के खिलाफ संत महात्माओं से लेकर आम लोगों में भी काफी नाराजगी है. हालांकि, नाराजगी के बावजूद किसी को भी अयोध्या में घुसने या मंदिर में दर्शन करने से नहीं रोका जा सकता है.

ब्यूरो रिपोर्ट, प्रयागराज

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here