लखीमपुर खीरी (यूपी) : आज रात लखीमपुर खीरी में बराबर मूसलाधार बारिश के साथ चली तेज हवाओं  से धान व गन्ने की फसल प्रभावित होकर हुई नष्ट किसानों का भारी नुक्सान, बरबर क्षेत्र में  बारिश से जहां फसलों को फायदा हुआ है। वहीं पर बारिश के साथ चली तेज हवाओं नुक्सान ज्यादा हुआ हवाओं के चलते  धान व गन्ने की लहलहाती फसल बर्बाद ही गई, बारिश के साथ तेज हवाओं से कुछ जगहों पर धान व गन्ने की फसल जमीदोज हो गई जिससे किसानों की धान की कच्ची फसल का काफी नुकसान है,

इन दिनों किसानों की धान की फसल तैयार हो चुकी है, लेकिन बारिश के साथ चलने वाली हवा का फसलों पर काफी बुरा असर पड़ रहा है। फसलें हवा के साथ गिर कर जमीं से बिछ गई है। चीनी मिल चलने में अभी दो माह बाकी है, इससे हवाओं से गिरी किसानों की गन्ने की फसल को काफी क्षति पहुंचेगी।तराई में बारिश के न होने के चलते जहां शहरवासियों को भीषण गर्मी का सामना करना पड़ रहा था वहीं किसानों की फसलें सूखने की कगार पर पहुंच गईं थीं।  लेकिन रुक रुक कर बारिश का सिलसिला शुरु हुआ तो किसानों के चेहरों पर खुशी दिखाई दी। लेकिन रात तेज हवाओं के साथ हुई बारिश के चलते अधिकतर क्षेत्र के किसानों के खेतों में खड़ी गन्ने की फसल जमींदोज हो गई जिससे उनका बड़ा नुकसान हो गया,

देश दुनिया की अहम खबरें अब सीधे आप के स्मार्टफोन पर TheHindNews Android App

वहीं किसानों ने बताया पहले ही बकाया गन्ने के भुगतान को लेकर हैं परेशान, भुगतान न होने के चलते किसानों के आगे बच्चों को पढ़ाने से लेकर खाने तक के लाले पड़े हुए हैं लेकिन उनकी समस्या का सामाधान करने वाला कोई नही दिखाई दे रहा है। इन सब समस्याओं के बीच  पहले बारिश न होने के चलते पानी की कमी से फसले सूख रहीं थी और जब बारिश हुई तो किसान बर्बाद ही हो गया,

आपको बताते चलें बजाज चीनी मिल गोला गोकरननाथ जो कि अभी पिछले गन्ने का किसानों को पेमेंट नहीं कर सका है वहीं इस साल तेज हवाओं ने किसानों को एक और बड़ा झटका दे दिया, इससे पहले भी किसानों ने गन्ने कि बकाया राशि को लेकर कई बार आवाज उठाई लेकिन फिर भी किसानों कि मजबूरियों को नजरअंदाज किया और अभी तक बकाया राशि प्रदान नहीं की गई है।

रिपोर्ट, एचआर, मो. लुकमान लखीमपुर खीरी

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here