लखनऊ (यूपी) : अखिलेश यादव द्वारा भगवान परशुराम की मूर्ति लगवाने की घोषणा करने पर कन्नौज के सांसद सुब्रत पाठक ने शनिवार को अखिलेश यादव पर निशाना साधा, उन्होंने अखिलेश यादव पर ब्राह्मण विरोधी होने का आरोप लगाया हैं, सुब्रत पाठक ने कहा कि जय श्रीराम का विरोध करने वाले अखिलेश यादव जय परशुराम के जरिए ब्राह्मणों का वोट पाकर फिर से सत्ता हासिल कर उत्तर प्रदेश को लूटने का सपना देख रहे हैं.

सुब्रत ने कहा कि अच्छा होगा कि अखिलेश यादव हमारे महापुरुषों और भगवान को जातियों में न बांटें, उन्होंने कहा कि राम-क्षत्रिय, कृष्ण-यादव और परशुराम-ब्राह्मण बताकर अखिलेश संगठित हुए समाज की एकता को तोड़ने का प्रपंच रच रहे हैं, सुब्रत ने कहा कि अखिलेश यादव निर्दोष राम भक्तों के हत्यारे अपने पिता से यदि पूछेंगे तो उनके पिता उन्हेंं बता देंगे कि इस देश का ब्राह्मण जातिवादी नहीं बल्कि राष्ट्रवादी है और भारत माता की पूजा करता है.

देश दुनिया की अहम खबरें अब सीधे आप के स्मार्टफोन पर TheHindNews Android App

सपा सरकार में ब्राह्मणों के साथ अन्याय और अत्याचार के आरोप लगाते हुए कहा कि वह अखिलेश से पूछना चाहते हैं कि मूर्ति लगवाना ब्राह्मण वोट लेने का हथकंडा है या पिता-पुत्र दोनों की सरकारों में ब्राह्मणों पर हुए अत्याचारों का प्रायश्चित है, जिस समाजवादी विचारधारा का जन्म ही ब्राह्मणों के विरोध में हुआ हो, वह आज ब्राह्मण वोट के लिए प्रपंच रच रहे हैं.

सुब्रत ने अखिलेश यादव पर कन्नौज में साल 2004 में नीरज मिश्रा की हत्या करवाने का आरोप लगाया, कहा कि वह हत्या अखिलेश के इशारे पर हुई थी, तब वह सत्ता का दुरुपयोग कर बच गए थे, सुब्रत ने कहा कि अखिलेश यादव ने अपने विधायकों के लिए खास हिदायत जारी की है कि ब्राह्मणों की कोई मदद न की जाए, अखिलेश यादव जब मुख्यमंत्री बने तो नौकरी में भी ब्राह्मणों के साथ भेदभाव हुआ, आरोप लगाया कि मेरिट में ब्राह्मण के नंबर कम कर दिए जाते थे और मुख्यमंत्री के स्वजातीय के नंबर बढ़ा दिए जाते थे.

रिपोर्ट सोर्स, पीटीआई

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here