लखनऊ (यूपी) : उत्तर प्रदेश की सातों विधानसभा के उपचुनावों में आज सभी प्रबुद्ध मतदाताओं ने सत्तारूढ़ भाजपा के तमाम हथकंडो और दबावों को नकारते हुए समाजवादी पार्टी के प्रत्याशियों के पक्ष में मतदान किया। मतदाताओं के रूझान से समाजवादी पार्टी की जीत सुनिश्चित हो गई है। समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष एवं पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने सभी मतदाताओं को इसके लिए बधाई दी है और निर्भीकता से अपने मताधिकार का प्रयोग करने के लिए उनकी प्रशंसा की है।

समाजवादी पार्टी के प्रत्याशी सर्वश्री ब्रह्माशंकर त्रिपाठी देवरिया से, मल्हनी से लकी यादव, नौगवां सादात से सैयद जावेद आब्दी, टूण्डला से महाराज सिंह धनगर, घाटमपुर से इन्द्रजीत कोरी, बांगरमऊ से सुरेश कुमार पाल तथा बुलन्दशहर में सहयोगी राष्ट्रीय लोक दल के प्रवीण कुमार सिंह को अपनी स्वच्छ छवि के कारण जनता का प्रबल समर्थन मिला है।

देश दुनिया की अहम खबरें अब सीधे आप के स्मार्टफोन पर TheHindNews Android App

यद्यपि मतदाता समाजवादी के पक्ष में मतदान के लिए सुबह से ही मतदान केन्द्रों पर लाइन में लग गए थे किन्तु कई स्थानों पर धांधली कर उनके उत्साह पर पानी फेरने के प्रयास किए गए। सत्तादल ने अपनी हार का संकेत पाकर मतदाताओं का उत्पीड़न शुरू कर दिया है। अमरोहा की नौगवां सादात विधानसभा सीट पर मतदान के दौरान वोटरों पर पुलिस का लाठीचार्ज सत्तापक्ष को सामने दिख रही हार के बाद जनता पर किया वार है।

सत्तारूढ़ दल ने चुनाव में आज धांधलेगर्दी की हद कर दी है। कहीं ईवीएम मशीन में गड़बड़ी रही, कहीं समाजवादी पार्टी कार्यकर्ताओं का खुलेआम उत्पीड़न हुआ। कई पुलिस कर्मी, ठेकेदार सत्तादल के प्रचारक की भूमिका में नज़र आए। चुनाव आयोग को इन सभी शिकायतों से अवगत करा दिया गया है। प्राप्त सूचनाओं के अनुसार कई मतदान केन्द्रों पर थर्मल स्कैनिंग के बहाने पीठासीन अधिकारी द्वारा 30 प्रतिशत से ज्यादा मतदाताओं को मतदान से वंचित किया गया। कई मतदान केन्द्रों पर ईवीएम मशीन खराब होने से मतदान बाधित हुआ।  नौगवां सादात के बूथ संख्या 83 पर भाजपा के इशारे पर समाजवादी पार्टी के जिला उपाध्यक्ष जुबैर खान को थाना रजापुर की पुलिस ने प्रातः 09ः30 बजे से नाहक बिठा रखा। चुनाव की निष्पक्षता का यह मजाक है। विधान सभा क्षेत्र 337 देवरिया सदर के बूथ संख्या 252, 253 नई सब्जीमण्डी पर ‘राष्ट्रीय फूल कमल का फूल‘ बड़ा स्लोगन लिखा है और कमल का निशान भी बना है जिसे मिटाया नहीं गया है। जौनपुर के मल्हनी विधानसभा क्षेत्र के बूथ संख्या 07, 7अ और बिरसादपुर में फर्जी मतदान कराए जाने की शिकायते मिली है।

जनपद अमरोहा के विधानसभा क्षेत्र नौगवां सादात के बूथ संख्या 234 एसएम इंटर कालेज पर तीन समाजवादी पार्टी के कार्यकर्ताओं को गिरफ्तार किया गया। बूथ संख्या 282 सैदपुर ईमा पर बहुजन समाज पार्टी के प्रत्याशी की पत्नी बूथ कैप्चरिंग करती मिली। कोटीपुरा बूथ पर भाजपा के एक मंत्री के पिता और दियाली जागीर बूथ पर भाजपा विधायक की मौजूदगी में पुलिस ने लाठियां भांजी। एक महिला पुलिस पिटाई से जख्मी हो गई। बूथ संख्या 15 कन्या जूनियर हाईस्कूल पर पुलिस इंस्पेक्टर कमल सिंह अनावश्यक रूप से मतदाताओं को परेशान करते मिले। घाटमपुर सीट पर बूथ संख्या 231 प्राथमिक पाठशाला धर्मपुर पर सेक्टर मजिस्ट्रेट ने सभी मतदान अभिकर्ताओं को मतदान केन्द्र से बाहर कर दिया। यहां सभी मतदान अधिकारी भाजपा प्रत्याशी के सहकर्मी है जो एक ही विद्यालय में अध्यापक है। घाटमपुर में ही बूथ संख्या 256, 257, 258, 259, 260 सजेती पर समाजवादी पार्टी के मतदान अभिकर्ता ही मतदान अधिकारी ने नहीं बनाए। उन्नाव की बांगरमऊ के बूथ संख्या 108 पर इंक लगा रहा अधिकारी मतदाताओं को तीन नम्बर वाले चुनाव निशान का वोट दबाने को इंगित कर रहा है।

एक बात बहुत स्पष्ट है कि सत्तादल के अहंकार को इन उपचुनावों में करारा जवाब मिलने जा रहा है। ये उपचुनाव इसलिए भी महत्वपूर्ण है कि सत्ता के दुरूपयोग का जवाब देने के अवसर का मतदाताओं ने भरपूर प्रयोग किया है। सन् 2022के विधान सभा चुनावों के लिए यह मतदाताओं का संदेश भी है जो इशारा कर रहा है कि प्रदेश में मुख्यमंत्री अखिलेश यादव के नेतृत्व में ही अगली बहुमत की सरकार बनेगी। जनता विकास चाहती है। भाजपा की जुमलेबाजी से वह तंग आ चुकी है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here