लखनऊ (यूपी) : समाजवादी नेता अमर सिंह के निधन से खाली हुई राज्यसभा सीट पर बीजेपी नेता सैयद जफर इस्लाम निर्विरोध निर्वाचित चुने गए हैं, बीजेपी यूपी महामंत्री गोविंद नारायण शुक्ला ने अपना नामांकन वापस ले लिया है, जिसके बाद जफर इस्लाम को निर्विरोध चुना लिया गया है, बीजेपी के जफर इस्लाम सातवें मुस्लिम नेता हैं, जो संसद पहुंचे हैं, जफर इस्लाम का कार्यकाल नंवबर 2022 तक के लिए है. 

बीजेपी ने जफर इस्लाम को अपना प्रत्याशी घोषित किया था, जिन्होंने 29 अगस्त को राज्यसभा का पर्चा दाखिल किया था, हालांकि, जफर इस्लाम स्वास्थ्य कारणों से अपना नामांकन दाखिल करने लखनऊ नहीं पहुंच सके थे और उनके प्रतिनिधि के रूप में सूबे के संसदीय कार्य मंत्री सुरेश खन्ना ने नामांकन पत्र दाखिल किया था, यूपी की एक सीट पर तीन लोगों ने नामांकन पत्र दाखिल किया था, जिनमें बीजेपी की ओर से जफर इस्लाम के अलावा गोविंद नारायण शुक्ला और निर्दलीय प्रत्याशी के तौर पर महेश शर्मा शामिल थे, लेकिन महेश शर्मा का निर्वाचन निरस्त हो गया था जबकि गोविंद नारायण शुक्ला ने शुक्रवार को अपना नाम वापस ले लिया है. 

देश दुनिया की अहम खबरें अब सीधे आप के स्मार्टफोन पर TheHindNews Android App

बता दें कि जफर इस्लाम बीजेपी के उदारवादी मुस्लिम चेहरा हैं, बीजेपी हाईकमान की तरफ से जफर इस्लाम को प्रत्याशी बनाया गया है, माना जा रहा है कि सिंधिया को कांग्रेस से बीजेपी में शामिल कराने के इनाम के तौर पर उन्हें प्रत्याशी बनाया गया, क्योंकि उन्होंने बहुत ही खामोशी के साथ मध्य प्रदेश में ऑपरेशन लोट्स को अंजाम दिया था. 

राजनीति में आने से पहले जफर इस्लाम एक विदेशी बैंक के लिए काम करते थे, सात साल पहले वो पीएम मोदी से प्रभावित होकर बीजेपी में शामिल हुए थे, बाद में पार्टी द्वारा उन्हें अपना राष्ट्रीय प्रवक्ता पद का प्रभार सौंपा गया, जफर इस्लाम स्वभाव से मृदुभाषी हैं और उनका पीएम मोदी के साथ भी अच्छा संबंध बताया जाता है. 

बता दें कि बीजेपी के संसद पहुंचने वाले जफर इस्लाम सातवें मुस्लिम सांसद बन गए हैं, जफर इस्लाम से पहले मुख्तार अब्बास नकवी, शहनवाज हुसैन, सिकंदर बख्त, आरिफ बेग, एमजे अकबर) और नजमा हेपतुल्ला) भाजपा के मुस्लिम सांसद रह चुके हैं.

रिपोर्ट सोर्स, पीटीआई

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here