लखनऊ (यूपी) : उत्तर प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष अजय कुमार लल्लू ने कहा कि बढ़ती बेरोजगारी और लगातार गिरती अर्थव्यवस्था से युवाओं का भविष्य खतरे में है,ऐसे समय योगी सरकार का नयी नियुक्तियों पर पांच साल संविदा पर रखे जाने के प्रस्तावित प्रस्ताव युवा वर्ग के साथ ऐतिहासिक अन्याय जैसा कृत्य साबित होगा।

लल्लू ने शनिवार को जारी बयान में कहा कि प्रदेश की योगी सरकार प्रदेश में नए रोजगार सृजन के मामले में पूरी तरह से फेल हो चुकी है। जिन युवाओं को सपनीले ख्वाब दिखा कर वो सत्ता में आये थे आज उन्हीं के साथ वो ऐतिहासिक छल कर रहे है।

देश दुनिया की अहम खबरें अब सीधे आप के स्मार्टफोन पर TheHindNews Android App

उन्होने कहा कि जब युवा रोजी-रोटी की चिंता में नौकरी मांगता है,रूकी हुई परीक्षाएं कराने और अटकी भर्तियां घोषित करने की मांग करता है तो भाजपा के नेता कुत्ता पालने, खिलौना बनाने, पकौड़ा बनाने की सलाह देते हैं जिससे यह साफ होता है कि भाजपा नेतृत्व का शिक्षा और युवाओं के भविष्य से कोई सरोकार नहीं रह गया है।

लल्लू ने कहा कि पिछले दिनों प्रदेश के छात्र नौजवानों ने द्वारा बेरोजगारी और चौपट अर्थव्यवस्था के विरोध में ताली-थाली बजाकर विरोध दर्ज कराने का अभियान चलाया गया जिसे युवाओं, छात्रों का भरपूर समर्थन हासिल हुआ है। उस विरोध प्रदर्शन के दर्द को समझने और निस्तारित करने के बजाये इस तरह के फैंसले लेने का मतलब साफ़ है कि मौजूदा योगी सरकार रोजगार विरोधी और युवा विरोधी है।

उन्होंने कहा कि योगी सरकार का यह फैसला बेहद अलोकत्रांतिक और गैर-जिम्मेदाराना है। राज्य कर्मचारी का एक बड़ा हिस्सा लगभग 70 फीसदी समूह ख और समूह ग से आता है। ऐसे में इन समूह की भर्ती को ‘मिजरेबल की परफॉरमेंस इंडिकेटर फार्मूला’ के आधार पर उनकी दक्षता को तय करके ही परमानेंट करना, इस समूह की भर्ती होने वाले कर्मचारियों के मौलिक अधिकारों का हनन है।

ब्यूरो रिपोर्ट, लखनऊ

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here