पटनाः राष्ट्रीय जनता दल के तेजतर्रार नेता और बिहार के पूर्व डिप्टी सीएम रहे तेजस्वी यादव ने एक बार फिर अपने आक्रामक तेवर दिखाने शुरु कर दिये हैं। उन्होंने किसानों के समर्थन में मानवश्रृंखला बनाने का आह्वान करते हुए बिहार सरकार के मुखिया पर तीखा हमला बोला है। तेजस्वी ने कहा कि नीतीश कुमार नेता नहीं हैं बल्कि वे ब्लैकमेलर हैं।

तेजस्वी ने कहा कि 30 जनवरी शहीद दिवस पर महागठबंधन की सभी पार्टियां तीन किसान विरोधी क़ानूनों के विरोध एवं किसान आंदोलन के पक्ष में पंचायत स्तर तक मानव श्रृंखला बनाएंगी। इस मानव श्रृंखला के माध्यम से बेरोजगारी, पलायन और किसान के मुद्दे उठाए जाएंगे।

देश दुनिया की अहम खबरें अब सीधे आप के स्मार्टफोन पर TheHindNews Android App

बिहार के पूर्व उपमुख्यमंत्री ने कहा कि एनडीए द्वारा बिहार से 2006 में APMC एक्ट समाप्त करने के बाद से यहाँ के किसान मजदूर बन गए हैं। इसके कारण बिहार से पलायन बढ़ गया। 16 वर्षों की NDA की सरकार में नीतीश कुमार जी ने बिहार को बेरोज़गारी का केंद्र और मजबूर प्रदेश बना दिया है।

उन्होंने कहा कि अगर आप नीतीश जी के इतिहास को देखें तो इन्होंने जॉर्ज फर्नांडिस, दिग्विजय सिंह, शरद यादव या हमारी पार्टी को ही ले लीजिए सबको धोखा दिया है। वह पिछले दरवाजे से सत्ता में आए और अपनी सत्ता की प्यास बुझाई। वो बिना कुर्सी के जी ही नहीं सकते। राजद के इस तेज तर्रार नेता ने कहा कि नीतीश ने बिहार का विनाश किया है। नीतीश कुमार सौदेबाज हैं, ब्लैकमेलर हैं। वह नेता नहीं है। वह लोगों के लिए नहीं है, वह खुद के स्वार्थ के लिए है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here