नई दिल्ली : उत्तर पूर्वी दिल्ली में भड़के दंगों से संबंधित मामलों की समीक्षा कर रही दिल्ली विधानसभा की अल्पसंख्यक कल्याण समिति की कल एक बार फिर बैठक हुई जिसमें कमेटी के अध्यक्ष अमानतुल्लाह, सदस्य अब्दुर्रहमान, हाजी यूनुस, प्रह्लाद सिंह साहनी के अलावा ग्रह सचिव, स्वास्थ्य सचिव, पूर्वी छेत्र के जिला अधिकारी व उप जिला अधिकारी, वक़्फ़ बोर्ड के अधिकारी उपस्थित रहे।

समिति की मीटिंग के बीच दंगा पीड़ितों के मुआवज़े और पुलिस द्वारा दंगों से संबंधित FIR की कॉपी समिति को उपलब्ध न कराय जाने पर विशेष चर्चा हुई। समिति के अध्यक्ष अमानतुल्लाह ने सबसे पहले स्वस्थ सचिव का ध्यान कुछ ऐसे केस की और कराया जिनमें पीड़ितों को काफी गंभीर चोटें आई हैं मगर एमअलसी करते समय डाक्टरों ने लापरवाही या जानबूझकर गंभीर चोटों को मामूली चोट लिख दिया है जिसके कारण पीड़ितों को सही मुआवज़ा नहीं मिल पाया तथा कई केस में पीड़ित अपाहिज तक हो गया, मगर उसको अपाहिज होने का मेडिकल सर्टिफिकेट भी नहीं मिल पाया है।

देश दुनिया की अहम खबरें अब सीधे आप के स्मार्टफोन पर TheHindNews Android App

ऐसे ही एक पीड़ित अकरम को समिति के समक्ष पेश किया गया जिसका पूरा एक हाथ काट दिया गया तथा दुसरे हाथ की ऊँगली काट दी गई मगर अकरम के केस को मामूली चोट की श्रेणी में डाले जाने के कारण उसे मात्र 20 हज़ार का मुआवज़ा ही मिल पाया था अब अधिकारयों ने अकरम के केस पर पुनः विचार करने और उसे सही श्रेणी में मुआवज़ा देने का आश्वासन समिति को दिया है। अकरम के केस के अलावा तौफ़ीक़, मास्टर सलमान, ज़ाकिर अंसारी और फिरोज अख्तर के केस भी पटल पर रखे गए जिनपर चर्चा हुई और सवस्थ सचिव ने इन सभी केसों पर पुनः विचार का आश्वासन समिति को दिया।

इसके अलावा रद्द हुवे मुआवज़ों के संबंध में दिल्ली वक़्फ़ बोर्ड दुवारा विशेषलेशन और तस्दीक़ के बाद सौंपी गई सूचि पर भी चर्चा हुई जिसमे अधिकारीयों ने बताया के 89 केसों में से 53 पर काम जारी हैं जिन्हें जल्द ही मुआवज़ा देदिया जायगा। समिति में आज अधिकारयों के सामने दो ऐसे वीडियो चलाय गए जिनमें से एक गोदाम को लूटते हुवे दंगाई साफ़ नज़र आरहे हैं जबकि दूसरा विडिओ हिंदुस्तान लाइव के सीनियर पत्रकार फरहान याह्या दुवारा शूट किया गया हे जिसमे रागनी तिवारी नामी एक महिला पुलिस वालों के सामने भीड़ को हिंसा के लिए भड़कती हुई नज़र आरही हे ,आरोप हे की यह महिला कपिल मिश्रा की क़रीबी हे और दंगों को भड़काने में इस महिला का बहुत बड़ा योगदान था। कमेटी ने इस संबंध में ग्रह सचिव को कार्रवाई के निर्देश दिए जिसकी रिपोर्ट गिरह सचिव ने अगली मीटिंग में पटल पर रखने का आश्वासन दिया। समिति के अध्यक्ष श्री अमानतुल्लाह ने गिरह सचिव से उन वीडियो पर की गई कार्रवाई के बारे में भी पुछा जिन्हे पिछली मीटिंग में समिति के सामने दर्शाया गया था, इस संबध में ग्रह सचिव ने पुलिस विभाग का जवाब पटल पर रक्खा जिसमें बताया गया के समिति दुवारा पूछे गए कुल 7 केसों में से 4 में FIR दर्ज कर्ली गई हे तथा अन्य वीडिओज़ का विशेषिलेशन किया जारहा हे

समिति के अध्यक्ष अमानतुल्लाह खान ने मीटिंग में अधिकारयों को निर्देश देते हुवे कहा की पीड़ितों के साथ अन्याय हुवा हे और उनपर दोहरी मार पड़ी हे ऐसे में अगर आपके दुवारा की गई कार्रवाई में कमियां रहेंगी तो पीड़ितों को न्याय मिलना मुश्किल होगा इस लिए आप लोग पीड़ितों के मुआवज़े के काम गंभीरता और तेज़ी के साथ निपटाने का काम करें और मानवता को ध्यान में रखते हुवे पीड़ितों के साथ न्याय को सुनश्चित करें

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here