Urdu

Epaper Urdu

YouTube

Facebook

Twitter

Mobile App

Home दिल्ली निजी अस्पतालों में 20% कोरोना बेड जरूरी, मिक्स सिस्टम में दिक्कत हो...

निजी अस्पतालों में 20% कोरोना बेड जरूरी, मिक्स सिस्टम में दिक्कत हो तो पूरा अस्पताल कोरोना डेडिकेटेड :मनीष सिसोदिया

डिप्टी सीएम मनीष सिसोदिया मनीष सिसोदिया ने दिल्ली के निजी अस्पतालों में 20 फीसदी बेड कोरोना मरीजों के लिए रिजर्व करने का निर्देश दिया है। इसका मकसद यह है कि अन्य रोगों के मरीजों को अगर कोरोना हो, तो कोई अस्पताल उनके इलाज से इंकार न करे। श्री सिसोदिया ने कहा कि जिन अस्पतालों को 20 फीसदी बेड कोरोना रिजर्व करने में कोई लॉजिस्टिक दिक्कत होगी, उन्हें कोरोना डेडिकेटेड अस्पताल घोषित कर दिया जाएगा। इसके लिए अस्पतालों को कल तक का समय दिया गया है।

डिप्टी सीएम मनीष सिसोदिया मनीष सिसोदिया और स्वास्थ्य मंत्री सत्येंद्र जैन ने आज संयुक्त प्रेस कांफ्रेंस को संबोधित किया। श्री सिसोदिया ने कहा कि हमें किसी डेटा में नहीं उलझना है। हमारी किसी राज्य से प्रतियोगिता नहीं है। मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल का साफ कहना है कि सबकी जान बचाना हमारी प्राथमिकता है। कोरोना के मामले बढ़ रहे है। इसलिए कोरोना डेडिकेटेड अस्पतालों की संख्या बढ़ाई जा रही है। पांच सरकारी तथा तीन प्राइवेट अस्पतालों को कोरोना आरक्षित अस्पताल बनाया गया है।

देश दुनिया की अहम खबरें अब सीधे आप के स्मार्टफोन पर TheHindNews Android App

साथ ही, 61 प्रमुख निजी अस्पतालों को 20 फीसदी बेड कोरोना मरीजों के लिए आरक्षित करने का निर्देश दिया गया है। ऐसे अस्पताल अब अन्य रोगों वाले कोरोना मरीजों के इलाज से इंकार नहीं कर सकते। श्री सिसोदिया ने कहा कि बहुत से अस्पतालों ने इसे मान लिया है। कुछ अस्पतालों ने मिक्स सिस्टम में असमर्थता जताई है। ऐसे अस्पतालों को कल तक का समय दिया गया है। जिन अस्पतालों को मिक्स सिस्टम में दिक्कत होगी, तो उन्हें कोरोना आरक्षित अस्पताल घोषित कर दिया जाएगा। श्री सिसोदिया के अनुसार मूलचंद, गंगाराम और सरोज हाॅस्पीटल को कोराना डेडिकेटेड अस्पताल बनाया गया है।

श्री सिसोदिया ने बताया कि इस पाॅलिसी का मकसद यह है कि अन्य रोगियों में कोरोना के लक्षण होनेे पर भी उन्हें इलाज मिलता रहे। साथ ही, कोरोना के मरीजों के लिए बेड में दिक्कत न आए। श्री सिसोदिया ने कहा कि एसिम्प्टोमेटिक मरीजों को भयभीत होकर अस्पताल में भरती होना जरूरी नहीं। मेडिकल टीम की देखरेख में घर पर ही उनका इलाज संभव है। क्रिटिकल मरीजों को ही अस्पतालों में भरती होने की जरूरत है।

स्वास्थ्य मंत्री सत्येंद्र जैन ने कहा कि तीन प्रकार के कोरोना मामले हैं एसिम्प्टोमेटिक, मॉडरेट और सीवियर।
एसिम्प्टोमेटिक मरीजों में कोई लक्षण नहीं दिखता। माइल्ड सिम्पटम वालों में बुखार और खांसी जैसे लक्षण होते हैं। एसिम्प्टोमेटिक मरीजों का होम आइसोलेशन में इलाज संभव है। कई हजार लोग अभी घर पर इलाज ले कर ठीक हो रहे हैं। जिन लोगों में मॉडरेट सिम्पटम या सीवियर सिम्पटम होते हैं उन्हें अस्पताल में भरती करना जरूरी है।

उन्होंने कहा कि जिनकी सांस लेने की गति एक मिनट में 15 से ज्यादा हो अथवा ऑक्सीजन लेवल 94% से कम हो, जिनकी सांस लेने की गति प्रति मिनट 30 से ज्यादा तथा ऑक्सीजन लेवल 90% से कम हो, ऐसे लोगों को तत्काल अस्पताल में भर्ती करना जरूरी होता है। श्री जैन ने कहा कि दिल्ली सरकार यह सुनिश्चित कर रही है कि किसी भी इंसान को इलाज में कोई दिक्कत न आए।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Must Read

अमेरिका ने किया WHO से हटने का ऐलान, राष्ट्रपति उम्मीदवार बाइडन ने किया विरोध

नई दिल्ली: कोरोना महामारी के बीच अमेरिका विश्व स्वास्थ्य संगठन छोड़ रहा है, वह अपने फैसले पर पुनर्विचार करने को तैयार नहीं...

WHO ने भी माना- ‘कोरोना का हो सकता है हवा से संक्रमण, मिले हैं सबूत’

नई दिल्ली:  कोरोना वायरस का खतरा दिन प्रतिदिन दुनिया में बढता जा रहा है अब इस वायरस से हवा के ज़रिये भी...

लोक-पत्र संभाग- क्या लोकतंत्र का लोक अपने लोक की समस्या पढ़ना चाहेगा?

रवीश कुमार  1. सर बैंक से कृषि लोन लिया था जिसमे मात्र 7 प्रतिशत का व्याज लिया जाता है...

कांग्रेस ने PM मोदी पर तंज कशते हुए पूछा- ‘सेना अपने ही इलाक़े से क्यों पीछे हट रही है?’

नई दिल्ली: भारत–चीन के बीच सीमा विवाद में कल लद्दाख में चीनी सेना के साथ-साथ भारतीय सेना भी पीछे हटी, इसी मुद्दे...

पंजाब: बेअदबी कांड में डेरा प्रमुख गुरमीत राम रहीम मुख्य साजिशकर्ता, राजनीतिक दलों में हड़कंप

अमरीक गुरमीत राम रहीम सिंह का नाम अब नए विवाद में सामने आया है, श्री गुरु ग्रंथ साहिब बेअदबी...