नई दिल्ली: इसी तरह से गुजरात के पालनपुर में पुलिस ने मुसलमानों को निशाना बनाया। जब देश भर में सीएए और एनआरसी के खिलाफ विरोध प्रदर्शन शुरू हो गए थे, तब पालनपुर में भी विरोध प्रदर्शन हो रहे थे। विरोध के लिए कानूनी अनुमति भी प्राप्त की गई थी और सभी तैयारियां की गईं थी। लेकिन 19 दिसंबर के विरोध प्रदर्शन की पूर्व संध्या पर, पुलिस ने उस परमिशन को रद्द कर दिया, जो शांतिपूर्ण और संवैधानिक रूप से होना था।

फिर भी, पुलिस ने विरोध की अनुमति को अचानक रद्द कर दिया और माहौल को खराब करने की कोशिश की। क्योंकि इस क्षेत्र में तैयारी पूरी हो गई थी। अगले दिन वे अपने अधिकारों के लिए सड़कों पर इंतजार कर रहे थे। परमिशन के अचानक रद्द होने से उन्हें अपने घर पर रोकना असंभव था। दूसरे दिन लोग तय किये वक़्त पर तय कि गई जगह पर पहुच गए, लेकिन पुलिस ने अपने हक के लिए इकठ्ठा हुए नेताओ की गिरफ्तारी शुरू की, इसके बाद लोगो ने विरोध किया और गिरफ्तार किए नेताओ को रिहा करने की मांग की। इसमे पुलिस की गाड़ी को भी लोगो ने नुकसान किया , जिससे ये विवाद खड़ा हो गया।

देश दुनिया की अहम खबरें अब सीधे आप के स्मार्टफोन पर TheHindNews Android App

फिर 21 दिसंबर को, पुलिस ने एक कपटी काम्बिंग की। लगभग 100 युवाओं को गिरफ्तार किया गया था, जिनमें से अधिकांश पालनपुर के प्रसिद्ध मोमिन / चेलिया समुदाय से थे। इनमें से 50 को रिहा कर दिया गया और 50 को तीन महीनों के लिए जेल में रखा गया। उसे अब ईद से पहले पैरोल पर रिहा कर दिया गया है, मतलब कि उसकी पैरोल की अवधि समाप्त होते ही उसे फिर से गिरफ्तार कर लिया जाएगा। प्रदर्शनकारीओ के अग्रिम कार्यकर्ता अब्दुल हक को भी दो दिन पहले लोकडाउन के दौरान गिरफ्तार किया गया है।

*दो दिन पहले गिरफ्तार किए गए अब्दुल हक को भी पुलिस ने एक साजिश के तहत गिरफ्तार किया है, क्योंकि शुरू में जब गिरफ्तारी चल रही थी, तब अब्दुल हक सरंडर कर के गिरफ्तारी के लिए PSI पुलिस के पास गया था लेकिन तब उसे गिरफ्तार नहीं किया गया। फिर उसे भगोड़ा घोषित कर दिया गया और बाद में उसे भगोड़े के रूप में गिरफ्तार कर लिया गया! इस प्रकार पालनपुर के मुसलमानों को अब तंत्र द्वारा साजिश के तहत निशाना बनाया जा रहा है।

मैंने इन पीड़ितों के खिलाफ दर्ज की गई एफआईआर को भी देखा है, इस एफआईआर में स्पष्ट दिखता है कि मुस्लिम युवाओं को फसाने की एक स्क्रिप्ट है। यदि आप पालनपुर की घटना को ध्यानसे देखते हैं, तो आप महसूस करेंगे कि योजना शुरू से ही मुसलमानों के खिलाफ पुलिस द्वारा बनाई गई थी, कानूनी रूप से विरोध करने की पहली अनुमति दी जाती है, जब सभी तैयारियां पूरी हो जाती हैं, तो अचानक विरोध की अनुमति कुछ घंटे पहले संदिग्ध रूप से रद्द कर दि जाती है।

इस प्रकार, पुलिस ने पहले से ही इस प्रदर्शन को गैरकानूनी करार कर दिया था, उनको मालूम था कि मुसलमान किसी तरह विरोध करेंगे, और तब जाकर पालनपुर के मुसलमानों को वे निशाना बना सकते है। और फिर पालनपुर के मोमिन/चेलिया समुदाय ,जो कि व्यापारी और अपनी धार्मिक भावनाओं के लिए जाने जाते है, उनको परेशान करने की साजिश की गई। पुलिस की कार्रवाई मुस्लिम विरोधी भावना पर आधारित है। इसका अंदाजा इसी बात से लगाया जा सकता है कि दो दिन पहले जब पुलिस उन्हें गिरफ्तार करने के लिए अब्दुल हक के घर गई, तो उन्होंने घर की महिलाओं का अपमान किया और महिलाओं को भी निशाना बनाने की कोशिश की।

गुजरात पुलिस ने अहमदाबाद में ऐसा ही किया और मुस्लिम इलाकों में घरों में तोड़फोड़ की और महिलाओं, बच्चों और बुजुर्गों पर अत्याचार भी किया।

गुजरात पुलिस की यह कार्रवाई बिल्कुल असहनीय है, अब बड़े पैमाने पर उनके खिलाफ आवाज उठाना आवश्यक है। पालनपुर में पुलिस द्वारा मुस्लिम समुदाय पर हमले मुसलमानों पर एक बड़ा हमला है। पालनपुर में सभी को निशाना बनाया जा रहा है, लेकिन यह विशेष रूप से मोमिन चेलिया समुदाय को कमजोर करने का एक आधिकारिक प्रयास है, जैसा कि अतीत में कई संगठित मुसलमानों के साथ हुआ है। इस समय, सभी मुसलमानों को चल रहे अत्याचारों के खिलाफ पालनपुर के मुस्लिम चेलिया समुदाय के साथ एकजुट होना चाहिए।

दिसंबर 2019 से पुलिस की कार्रवाई चल रही है। इतने लंबे समय से पुलिस की कार्रवाई से बहुत खौफ का माहौल बना हुआ है। इससे पहले कि पूरे समुदाय के युवा भय और नकारात्मक प्रभाव के साथ-साथ भय की भावना को महसूस करे, मुस्लिम नेतृत्व को एक साहसिक संवैधानिक कदम उठाना चाहिए। पालनपुर और अहमदाबाद में मुस्लिम महिलाओं के साथ दुर्व्यवहार के खिलाफ सख्त, सम्मानजनक और संवैधानिक कार्रवाई की जानी चाहिए और सख्त कानूनी लड़ाई की जानी चाहिए।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here