नई दिल्ली : दिल्ली मीडिया पैनलिस्ट निगहत अब्बास ने आज बयान जारी कर कहा कि जब शाहीन बाग के लोगों को नागरिकता संशोधन कानून समझ आ गया है कि यह कानून किसी की नागरिकता छीनने के लिए नहीं, बल्कि नागरिकता देने के लिए है। इसके बाद वहां के मुस्लिम समाज के भाई- बहन भाजपा परिवार में शामिल हो रहे है। इससे आम आदमी पार्टी और कांग्रेस पार्टी बौखला गई है। उन्होंने कहा कि शाहीन बाग का प्रदर्शन आम आदमी पार्टी और कांग्रेस पार्टी द्वारा रचाया हुआ था और पैसों से प्रायोजित किया गया षड्यंत्र था, जिसने मुस्लिम समाज के लोगों को गुमराह किया। अब उन लोगों को समझ आ गया है कि सीएए के विरोध का कोई आधार नहीं था। 

निगहत अब्बास ने कहा कि आम आदर्मी पार्टी और कांग्रेस पार्टी मुस्लिम समाज के लोगों का लगातार शोषण करती आ रही है, लेकिन अब उनका यह मुखौटा उतर चुका है। दोनों पार्टियों ने सिर्फ वोट बैंक की राजनीति के लिए ही इस्तेमाल किया है। आम आदमी पार्टी और कांग्रेस ने मुस्लिम समाज के लोगों को वोट बैंक से ज्यादा कुछ नहीं समझा। अब जब इनका पर्दाफाश हो गया है तो दोनों पार्टियां तिलमिला रही हैं। 

देश दुनिया की अहम खबरें अब सीधे आप के स्मार्टफोन पर TheHindNews Android App

निगहत अब्बास ने कहा कि आम आदर्मी पार्टी विधायक अमानतुल्ला खान और पार्षद ताहिर हुसैन ने लोगों को भड़काया और अपनी राजनीति के लिए इतना गिर गए कि हिंदू मुस्लिम एकता को खत्म कर लड़ाइयां करवाईं और दिल्ली को आग में झोंक दिया। उन्होंने कहा कि हर कोई जानता है कि पूर्वी दिल्ली में जो हिंदु-मुस्लिम दंगे हुए उसमें आम आदमी पार्टी के नेता ताहीर हुसैन मुख्य आरोपी हैं। दंगों के दौरान ताहीर हुसैन मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल, उपमुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया, ओखला के विधायक अमानतुल्ला खान और पार्टी के नेताओं के सीधे संपर्क में था। आम आदमी पार्टी और कांग्रेस पार्टी शांति के दुश्मन हैं यहीं वजह है कि वे अब केवल राजनीति कर रहे हैं। आज जब शाहीन बाग के लोग अमन और शांति चाहते हैं और भाजपा के साथ चलना चाहते हैं, तो आप पार्टी को डर लगने लगा है, क्योंकि अब मुस्लिम समाज के लोग वोट बैंक के लिए और शोषण नहीं सहेंगे। उन्होंने कहा कि मोदी जी के नेतृत्व में मुस्लिम समाज मजबूती से आगे बढ़ रहा है तथा एकता का परचम लहरा रहा है।

रिपोर्ट सोर्स, पीटीआई

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here