नई दिल्ली/लखनऊ: कोरोना वायरस का संक्रमण रोकने के लिए लखनऊ में भी 12 हॉटस्पॉट सील किए गए हैं। हालांकि शहर के दूसरे हिस्से में रहने वाले लोगों को इससे परेशान होने की जरूरत नहीं है। बाकी इलाकों में पहले की तरह लॉकडाउन जारी रहेगा और जरूरत के सामान वाली दुकानें, अस्पताल, बैंक और एटीएम खुले रहेंगे। शहर में सिर्फ हॉटस्पॉट के तौर पर चिह्नित इलाकों के रास्ते ही बंद किए गए हैं। डीएम अभिषेक प्रकाश के मुताबिक, हॉटस्पॉट इलाके सील किए जाने से लोगों को घबराने की जरूरत नहीं है। एक खास इलाके को संक्रमण से निजात दिलाने के लिए ऐसा किया गया है। इन इलाकों में सैनिटाइजेशन करवाने के साथ स्थानीय लोगों का पूरा खयाल रखा जाएगा। इसके अलावा बाकी जगहों पर पहले की तरह इंतजाम रहेंगे।

बाकी इलाकों में लोग पहले की तरह नजदीकी दुकान पर राशन, सब्जी, फल, दूध और अन्य सामान खरीदने के लिए जा सकेंगे। आवश्यक वस्तुओं की दुकानें खुली रहेंगी और होम डिलिवरी भी होती रहेगी। डीएम अभिषेक प्रकाश ने बताया कि सील किए गए इलाकों में सिर्फ होम डिलिवरी और सरकारी मशीनरी के जरिए ही राशन, दवा, सब्जी, दूध और अन्य आवश्यक वस्तुओं की सप्लाई करवाई जाएगी। यहां रहने वालों की सूची तैयार कर इन्हें जरूरत का हर सामान मुहैया करवाया जाएगा।

गरीबों को मुफ्त भोजन-राशन


सील इलाकों में अगर कोई निराश्रित या गरीब निवास कर रहा है तो उसके भोजन की व्यवस्था जिला प्रशासन करवाएगा। ऐसे लोगों को कम्युनिटी किचन या अन्य माध्यम से भोजन और राशन उपलब्ध करवाया जाएगा।

सीधे नहीं कर सकेंगे मदद

देश दुनिया की अहम खबरें अब सीधे आप के स्मार्टफोन पर TheHindNews Android App


सील किए गए इलाकों में स्वयंसेवी संस्थाओं के प्रतिनिधि लोगों की मदद के लिए खुद नहीं जा सकेंगे। इन इलाकों में बाहरी लोगों का प्रवेश पूरी तरह प्रतिबंधित रहेगा। कोई मदद करना चाहता है तो वह कम्युनिटी किचन के जरिए मदद कर सकता है।

तबीयत बिगड़ने पर मिलाएं 108


सील किए गए इलाकों में अगर किसी को स्वास्थ्य संबंधी दिक्कत होती है तो उसे 108 नंबर डायल करना होगा। कॉल मिलते ही ऐम्बुलेंस पहुंचेगी और उपचार करवाया जाएगा। इसके अलावा अगर किसी को लॉ एंड ऑर्डर संबंधी दिक्कत होती है तो वह 112 डायल कर पुलिस की भी मदद ले सकता है।

लॉकडाउन, इलाका सील और कर्फ्यू में जानिए क्या है फर्क


मंडलायुक्त मुकेश मेश्राम के अनुसार,


लॉकडाउन: आवश्यक वस्तुओं की आपूर्ति जिला प्रशासन करवाता रहता है। आवश्यक कार्यालय भी खुले रहते हैं। भीड़ नहीं लगा सकते।
इलाका सील: इन इलाकों कोई घुस नहीं सकता है। वहां की व्यवस्था अलग से निर्धारित की जाती है।
कर्फ्यू : परिंदा भी पर नहीं मार सकता है। किसी को आने जाने की अनुमति नहीं। ढील के दौरान ही आवश्यक वस्तुओं की आपूर्ति प्रशासन करवा सकता है।

ये इलाके हैं सील-

-अली जान मस्जिद के आसपास का इलाका, कैंट व मोहम्मदी मस्जिद के आसपास का क्षेत्र, वजीरगंज।
-फूलबाग मस्जिद के आसपास का क्षेत्र, कैसरबाग।
-नजरबाग मस्जिद के आसपास का इलाका, कैसरबाग।
-मोहम्मदिया मस्जिद के आसपास का क्षेत्र, सआदतगंज।
-पीर बक्का मस्जिद के आसपास का इलाका,तालकटोरा।
-खजूर वाली मस्जिद के आसपास का इलाका, त्रिवेणी नगर।
-रजौली मस्जिद के आसपास, गुडंबा।
-विजयखंड का हिस्सा, गोमतीनगर।
-मुंशीपुलिया में डॉ. इकबाल अहमद क्लीनिक, मेट्रो स्टेशन के पास का इलाका।
-खुर्रमनगर में अलीना एंक्लेव के आसपास का इलाका।
-आईआईएम पावर हाउस व मड़ियाव मिक्सर प्लांट के आसपास का इलाका।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here