Urdu

Epaper Urdu

YouTube

Facebook

Twitter

Mobile App

Home भारत देश : जिन्हें राम जन्मभूमि संघर्ष में एक खरोंच नहीं आई वे...

देश : जिन्हें राम जन्मभूमि संघर्ष में एक खरोंच नहीं आई वे बढ़-चढ़कर फ़ैसले ले रहे : संजय राउत

नई दिल्ली : पीएम मोदी अयोध्या में राम मंदिर भूमि पूजन कार्यक्रम में शामिल हुए, लेकिन इस बीच मंदिर आंदोलन से जुड़े लोगों को नहीं बुलाने का आरोप लगाकर शिवसेना के नेता संजय राउत ने निशाना साधा है, उन्होंने कहा है कि जिन्हें राम जन्मभूमि संघर्ष में एक खरोंच नहीं आई वे बढ़-चढ़कर फ़ैसले ले रहे हैं, हालाँकि राउत ने किसी का नाम नहीं लिया लेकिन समझा जाता है कि उनके निशाने पर मोदी हैं, हाल के दिनों में विपक्षी दलों के नेताओं ने इस पर सवाल खड़े किए हैं कि पीएम मोदी राम मंदिर आंदोलन से सीधे तौर पर जुड़े नहीं रहे हैं और वह इतने समय तक अयोध्या भी नहीं गए, लेकिन भूमि पूजन कार्यक्रम कर वाहवाही लूट रहे हैं.

कुछ ऐसा ही आरोप शिवसेना के नेता संजय राउत ने भी लगाया है, उन्होंने ‘न्यूज़18’ से कहा, ‘भगवान के नाम पर राजनीति हो रही है, क्या किया जा सकता है? यदि इस पर राजनीति नहीं होती तो लोग प्रभु राम के नाम पर वोट नहीं माँगते, लेकिन उन्होंने ऐसा किया,’ इस सवाल पर कि शिवसेना प्रमुख को क्यों आमंत्रित नहीं किया गया, संजय राउत ने कहा कि जिन्होंने भी संघर्ष में हिस्सा लिया था वे अतिथियों की सूची में शामिल नहीं थे, उन्होंने कहा, ‘कल्याण सिंह, एल के आडवाणी, नरसिम्हा राव, अटल बिहारी वाजपेयी जी, सभी ने आंदोलन में काफ़ी भूमिका निभाई, आयोजकों ने कहा कि अतिथि सूची इसलिए छोटी रखी गई है क्योंकि कोरोना का ख़तरा है.

देश दुनिया की अहम खबरें अब सीधे आप के स्मार्टफोन पर TheHindNews Android App

बता दें कि बाबरी मसजिद विध्वंस के मुक़दमे में अभियुक्तों की सूची में पहला नाम तत्कालीन यूपी शिवसेना के अध्यक्ष पवन पांडे का है जबकि आडवाणी, जोशी सहित अन्य का नाम साज़िश रचने वालों में हैं, पवन पांडे यूपी में पहली और अब तक आखिरी बार शिवसेना के टिकट से जीतने वाले विधायक रहे हैं, राम मंदिर निर्माण के लिए होने वाले भूमि पूजन कार्यक्रम में उन्हें बुलाया तक नहीं गया है, पांडे के साथ दूसरे जो लोग भी ढाँचा गिराने के आरोपी हैं और मुक़दमे का सामना कर रहे हैं उन्हें नहीं बुलाया गया है.

शिवसेना के मुखपत्र सामना में इस पर एक संपादकीय लिखा गया, इसमें कहा गया है कि ‘लोग जानते हैं कि संघर्ष में शिवसेना थी, बीजेपी ने ख़ुद के शामिल होने से इनकार किया था, उनका आधिकारिक बयान यह था कि उन्होंने यह नहीं किया है, उस समय बाला साहेब थे जिन्होंने कहा था कि उन्हें शिवसैनिकों पर गर्व है, हम अभी भी कोर्ट में केस का सामना कर रहे हैं, लोग यह जानते हैं.

रिपोर्ट सोर्स, पीटीआई

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Must Read

दिवंगत पत्रकार सुलभ श्रीवास्तव के परिवार को मुआवजे की माँग को लेकर पत्रकारों ने दिया ज्ञापन

दिवंगत पत्रकार सुलभ श्रीवास्तव के परिवार को मुआवजे की माँग को लेकर पत्रकारों ने दिया ज्ञापन

जिलाधिकारी अनुज सिंह की अध्यक्षता में हुई गंगा समिति व पर्यावरण की बैठक

जिलाधिकारी अनुज सिंह की अध्यक्षता में हुई गंगा समिति व पर्यावरण की बैठक हापुड़सोमवार...

संजय सिंह ने राम मन्दिर निर्माण ट्रस्ट पर लगाया ज़मीन खरीद में करोड़ो के घोटाले का आरोप

संजय सिंह ने राम मन्दिर निर्माण ट्रस्ट पर लगाया ज़मीन खरीद में करोड़ो के घोटाले का आरोप

मानवता की मिसाल बनी रिहाना शैख़ ने गोद लिए 50 बच्चे,पति कहते हैं ‘मदर टेरेसा’

मानवता की मिसाल बनी रिहाना शैख़ ने गोद लिए 50 बच्चे,पति कहते हैं 'मदर टेरेसा'

बुज़ुर्ग दम्पत्ति हत्याकांड: जिसे बनना था बुढ़ापे का सहारा,वही बन गया हत्यारा

बुज़ुर्ग दम्पत्ति हत्याकांड: जिसे बनना था बुढ़ापे का सहारा,वही बन गया हत्यारा ग़ाज़ियाबादगाजियाबाद के...