नई दिल्ली : डॉ कफील खान के अलीगढ़ में CAA /NPR /NRC के विरोध में दिए  जिस भाषण को भड़काऊ बता कर उत्तरप्रदेश सरकार ने रासुका लगा कर 8 माह जेल में रख कर प्रताड़ित किया था.

देश दुनिया की अहम खबरें अब सीधे आप के स्मार्टफोन पर TheHindNews Android App

उसी भाषण को सुनकर माननीय उच्च न्यायलय इलाहाबाद एवं माननीय सर्वोच्च न्यायालय ने यह स्वीकार किया कि भाषण में किसी भी प्रकार से देश को तोड़ने की नही बल्कि देश को जोड़ने की बात कही गई थी ।

किसी भी प्रकार का कोई भी सबूत न मिलने के कारण न्यायालय द्वारा डॉ कफील खान के ऊपर लगाए रासुका को अवैध करार कर बाइज़्ज़त बरी कर दिया ।

उस FIR को पूर्णरूप से समाप्त करने के लिए डॉ कफील खान ने माननीय उच्च न्यायालय इलाहाबाद में एक अपील दायर की है ।Filing no A482 / 34681 / 2020 CNR UPHC010550172021 दिनाँक- 23-03-21 दिन मंगलवार को सुनवाई हुई ।

माननीय जज महोदय ने इस बात को माना कि डॉक्टर कफ़ील के खिलाफ एफआईआर दर्ज करने और गिरफ़्तारी में पुलिस ने क़ानूनी प्रक्रिया का जैसे शासन से अनुमति लेना नहीं की।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here