Urdu

Epaper Urdu

YouTube

Facebook

Twitter

Mobile App

Home भारत पर्यावरण मंत्री जावड़ेकर ने कहा- हथिनी की मौत की हो जांच, सोशल...

पर्यावरण मंत्री जावड़ेकर ने कहा- हथिनी की मौत की हो जांच, सोशल मीडिया पर वायरल हुई दर्दनाक कहानी

नई दिल्ली: केरल के मलप्पुरम में कुछ लोगों ने गर्भवती हथिनी को पटाखों से भरा अनानास खिला दिया था, जिसके बाद उसके मुंह में पटाखे फट जाने से उसकी मौत हो गई, सोशल मीडिया पर इस घटना को लेकर लोगों में उबाल देखने को मिल रहा है, लोग इस घटना को अमानवीय बता रहे हैं, साथ ही घटना में संलिप्त लोगों की इंसानियत पर सवाल भी खड़े कर रहे हैं,

वन्य जीव अधिकारियों ने कहा कि पूरे मामले की जांच अभी चल रही है, हम हथिनी की मौत का पता लगाने की कोशिशों में जुटे हैं, इस पूरी चर्चा की शुरुआत तब हुई जब एक जूनियर स्तर के अधिकारी ने फेसबुक पोस्ट में लिखा कि हथिनी की मौत की वजह मुंह में पटाखे फटने की वजह से हुई है,

देश दुनिया की अहम खबरें अब सीधे आप के स्मार्टफोन पर TheHindNews Android App

सोशल मीडिया पर गर्भवती हथिनी की पानी खड़े होने वाली तस्वीर वायरल हो रही है, लोगों का गुस्सा मलप्पुरम के लोगों को पर फूट रहा है, मलप्पुरम गांव में हथिनी खाने की तलाश में आई थी, कुछ स्थानीय लोगों ने अनानास में पटाखे भरकर हथिनी को खिला दिया, दिल दहलाने वाली यह घटना सोशल मीडिया पर चर्चा के केंद्र में है, सामान्य तौर पर हाथियों का झुंड जंगलों में हमेशा चक्कर काटता रहता है, इस हादसे के बाद हथिनी एक नदी में खड़ी हो गई और असहनीय दर्द सहती रही, अपने आप में यह काफी दर्दनाक मामला है,

इस दर्दनाक घटना को नीलांबर के सेक्शन फॉरेस्ट अधिकारी मोहन कृष्णन ने सोशल मीडिया पर पहले शेयर किया, गांव में खाने की तलाश में अक्सर हाथी भटककर आ जाते हैं, लोगों ने अनानास में पटाखे छिपाए थे, सामान्य तौर पर ग्रामीण लोग ऐसा जंगली सूअरों को भगाने के लिए करते हैं, जैसे ही हथिनी ने फल खाया, उसके मुंह में पटाखे फूट पड़े, जिसकी वजह से उसे भयानक दर्द का सामना करना पड़ा,

उन्होंने लिखा, ‘वह गांव में खाने की तलाश में आई थी, उसे स्वार्थी मानव के बारे में नहीं पता था, जिसे वह देखने जा रही थी, उसे जरूर सोचना चाहिए था कि ये उसे खत्म कर देंगे, क्योंकि उसके पास दो जीवनों का भार था, वह सब पर विश्वास करती थी, जैसे ही अनानास उसने खाया, मुंह में विस्फोट हो गया, उसे जरूर शॉक होना चाहिए था कि उसने खुद के बारे में क्यों नहीं सोचा, 18 से 20 महीने के भीतर वह बच्चे को जन्म देने वाली थी,’ इस घटना को पर्यावरण मंत्रालय ने भी गंभीरता से लिया है और घटना की पूरी रिपोर्ट मांगी है, वन एवं पर्यावरण मंत्री प्रकाश जावड़ेकर ने कहा कि जो लोग भी इसमें दोषी होंगे, उनके खिलाफ कड़ी कार्रवाई की जाएगी

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Must Read

डाॅ. जोगिंदर के परिजनों को एक करोड़ रुपये की सहायता राशि दी, भविष्य में भी परिवार की हर संभव मदद करेंगे : CM केजरीवाल

नई दिल्ली: मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने आज डाॅ. बाबा साहब अंबेडकर मेडिकल हाॅस्पिटल एंड काॅलेज में एड-हाॅक पर जूनियर रेजिडेंट रहे कोरोना...

गुजरात : पत्रकार कलीम सिद्दीकी को तड़ीपार का नोटिस, देश भर में हो रही है आलोचना, बोले कलीम- ‘नोटिस कानून व्यवस्था पर प्रश्न चिन्ह’

ऩई दिल्ली/अहमदाबाद : 30 जुलाई को पत्रकार कलीम सिद्दीकी अहमदाबाद शहर के एसीपी कार्यालय में उपास्थि हो कर तड़ीपार मामले में अपना...

बिहार: तेज प्रताप यादव ने किया बाढ़ प्रभावित इलाकों का दौरा, बोले- ‘CM का सारा सिस्टम हो गया फेल, बिहार की जनता बेहाल’

नई दिल्ली/बिहार: बिहार इस समय दो-दो आपदाओं की मार झेल रहा है, कोरोना के साथ ही बाढ़ से त्राहिमाम मचा हुआ है,...

भोपाल : बोले दिग्विजय सिंह- “राम मंदिर का शिलान्यास कर चुके हैं राजीव गांधी”

नई दिल्ली/भोपाल : राज्यसभा सांसद दिग्विजय सिंह ने अयोध्या में राम मंदिर के शिलान्यस के मुहूर्त को लेकर सवाल उठाए हैं, उन्होंने 5...

सहसवान : नगर अध्यक्ष शुएब नक़वी आग़ा ने मनाया रक्षा बंधन पर्व, पेश की गंगा-जमुनी तहजीब की मिसाल

सहसवान/बदायूँ (यूपी) : रक्षाबंधन पर्व की यही विशेषता है कि यह धर्म-मज़हब की बंदिशों से परे गंगा-जमुनी तहज़ीब की नुमाइंदगी करता है,...