Urdu

Epaper Urdu

YouTube

Facebook

Twitter

Mobile App

Home भारत PM CARES Fund पर फंसी मोदी सरकार, बॉम्बे HC ने जवाब मांगा

PM CARES Fund पर फंसी मोदी सरकार, बॉम्बे HC ने जवाब मांगा

नई दिल्ली: पीएम केयर्स फंड को लेकर जो सुप्रीम कोर्ट से नहीं हो पाया, वह बॉम्बे हाई कोर्ट ने कर दिखाया है, मंगलवार 2 जून को बॉम्बे हाई कोर्ट ने पीएम केयर्स फंड की इन्फॉर्मेशन पब्लिक करने और इसकी ऑडिटिंग कैग से कराने के लिए पड़ी याचिका पर मोदी सरकार को नोटिस जारी किया है, हालांकि सुनवाई के दौरान मोदी सरकार के वकील ने इस याचिका का जमकर विरोध किया और यह कहकर इस याचिका को खारिज कराने की पूरी कोशिश की चूंकि सुप्रीम कोर्ट ने ऐसी ही याचिका को पहले ही खारिज कर दिया है, इसलिए बॉम्बे हाई कोर्ट को भी इसे खारिज कर देना चाहिए, इस पर बॉम्बे हाई कोर्ट की दो जजों की बेंच ने कहा कि सुप्रीम कोर्ट की याचिका दूसरी थी और यह याचिका दूसरी है, यह याचिका पहले वाले मामले से अलग है, आपको बता दें कि सुप्रीम कोर्ट में पीएम केयर्स फंड की वैधता को चुनौती देने वाली दो याचिकाएं पड़ी थीं, जिन्हें सुप्रीम कोर्ट ने खारिज कर दिया था,

बॉम्बे हाई कोर्ट की नागपुर पीठ एडवोकेट अरविंद वाघमारे की याचिका पर सुनवाई कर रही थी, इस याचिका की सुनवाई करते हुए जस्टिस सुनील बी शुक्रे और अनिल ए किलोर की नागपुर बेंच ने केंद्र की मोदी सरकार को निर्देश दिया कि वे अपने जवाब में हलफनामा दायर करें और अपनी स्थिति साफ करें, इस सुनवाई में मोदी सरकार की ओर से एडिशनल सॉलिसिटर जनरल अनिल सिंह पेश हुए, एएसजी अनिल सिंह ने पीठ से कहा कि ये याचिका खारिज कर दी जानी चाहिए क्योंकि ऐसी ही एक याचिका को अप्रैल में सुप्रीम कोर्ट ने खारिज कर दिया था, आपको बता दें कि सुप्रीम कोर्ट ने पीएम केयर्स फंड की वैधता को चुनौती देने वाले दो अलग-अलग याचिकाओं को खारिज कर दिया था, इस पर जस्टिस सुनील बी शुक्रे और अनिल ए किलोर की नागपुर बेंच ने कहा कि इस याचिका में अलग मुद्दा उठाया गया है और ये सुप्रीम कोर्ट वाले मामले से अलग है, हाईकोर्ट ने केंद्र सरकार को दो हफ्ते के भीतर हलफनामा दायर कर अपना जवाब देने को कहा है, एडवोकेट अरविंद वाघमारे की इस याचिका में कहा गया है कि 28 मार्च को पीएम केयर्स का गठन किया गया था और पहले हफ्ते में ही इसमें 6,500 करोड़ रुपये इकट्ठा हो गए थे, लेकिन अभी तक इससे संबंधित कोई भी आंकड़ा सार्वजनिक नहीं किया गया है,

देश दुनिया की अहम खबरें अब सीधे आप के स्मार्टफोन पर TheHindNews Android App

कोरोना महामारी से लड़ने के नाम पर आम जनता से आर्थिक मदद प्राप्त के लिए भारत सरकार ने पीएम केयर्स फंड नाम का एक पब्लिक चैरिटेबल ट्रस्ट बनाया है, पीएम मोदी इसके अध्यक्ष हैं और गृह मंत्री, रक्षा मंत्री और वित्त मंत्री इसके सदस्य हैं, एडवोकेट अरविंद वाघमारे ने अपनी याचिका में आगे कहा है कि पीएम केयर्स फंड की गाइडलाइन के मुताबिक, अध्यक्ष और तीन अन्य ट्रस्टी के अलावा अध्यक्ष तीन और ट्रस्टी को नॉमिनेट कर सकता है लेकिन 28 मार्च से अब तक इस ट्रस्ट में कोई नियुक्ति नहीं की गई है, एडवोकेट अरविंद वाघमारे ने कोर्ट से ये निर्देश देने की मांग की है कि इस ट्रस्ट में विपक्षी दलों के कम से कम दो लोगों की नियुक्ति की जाए ताकि फंड की पारदर्शिता बनी रहे, इसके अलावा यह भी मांग की गई है कि सरकार के अनुसार किसी स्वतंत्र ऑडिटर के बजाय पीएम केयर्स फंड की ऑडिटिंग कैग करे,

वैसे यह बात कम ही लोगों को मालूम है कि बॉम्बे हाई कोर्ट की नागपुर बेंच नरेंद्र मोदी सरकार से पीएम केयर्स फंड पर पिछले महीने यानि की मई में भी जवाब मांग चुकी है, 12 मई को ही बांबे हाईकोर्ट ने एडवोकेट अरविंद वाघमारे की उस एप्लिकेशन पर केंद्र की मोदी सरकार से जवाब मांगा था, जिसमें कोविड-19 महामारी के बीच सरकार द्वारा गठित ‘आपात स्थिति प्रधानमंत्री नागरिक सहायता एवं राहत कोष’ यानी कि पीएम केयर्स फंड को जितना भी पैसा मिला है, उसकी धनराशि राशि की घोषणा किये जाने की मांग की गई थी,

तब इस मामले की सुनवाई बॉम्बे हाई कोर्ट की एक सदस्यीय बेंच ने केंद्र की और उसने मोदी सरकार से जवाब मांगा था, बॉम्बे हाई कोर्ट की नागपुर पीठ के जस्टिस माधव जामदार ने 12 मई को एडवोकेट अरविंद वाघमारे की अर्जी पर सुनवायी की थी, इस अर्जी में सरकार को यह निर्देश देने का अनुरोध किया गया था कि वह प्राप्त धनराशि और किये गए खर्च को सरकारी वेबसाइटों पर समय समय पर जारी करे,

अदालत ने केंद्र सरकार से एडवोकेट अरविंद वाघमारे की अर्जी के जवाब में एक हलफनामा दायर करने को कहा और मामले की अगली सुनवायी अगली तारीख 15 मई तय की थी, ऐसा लगता है कि इस बार इसी याचिका की सुनवाई हुई है, लेकिन इसकी बेंच बदल गई है, इस याचिका का भी कंटेंट वही था, जो अभी उस मौजूदा याचिका का है, जिस पर बेंच ने केंद्र की मोदी सरकार से जवाब देने के लिए कहा है

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Must Read

जानिए ग़ाज़ियाबाद महापौर आशा शर्मा ने कहाँ किया निर्माण कार्य का उद्घाटन

शमशाद रज़ा अंसारी गुरुवार को पार्षद विनोद कसाना के वार्ड 20 में तुलसी निकेतन पुलिस चौकी से अंत तक...

जानिए क्या रहेगा ग़ाज़ियाबाद में दुकानों के खुलने और बन्द होने का समय

शमशाद रज़ा अंसारी जनपद में कोरोना के बढ़ते मरीजों की संख्या को देखते हुये प्रशासन ने सख़्ती शुरू कर...

ग़ाज़ियाबाद: प्रियंका से घबरा गयी है मोदी और योगी सरकार: डॉली शर्मा

शमशाद रज़ा अंसारी सरकार ने कांग्रेस नेता प्रियंका गाँधी वाड्रा से दिल्ली में सरकारी बँगले को खाली करने को...

निजी विद्यालय का रवीश कुमार के नाम ख़त

प्राइवेट स्कूलों और कॉलेजों के शिक्षक परेशान हैं। उनकी सैलरी बंद हो गई। हमने तो अपनी बातों में स्कूलों को भी समझा...

पासवान कहते हैं 2.13 करोड़ प्रवासी मज़दूरों को अनाज दिया, बीजेपी कहती है 8 करोड़- रवीश कुमार

रवीश कुमार  16 मई को वित्त मंत्री निर्मला सीतारमन ने कहा था कि सभी राज्यों ने जो मोटा-मोटी आंकड़े...