नई दिल्लीः देश की राजधानी दिल्ली की सीमा पर प्रदर्शन कर रहे एक और किसान की सर्दी से मौत हो गई। बता दें कि बीते 22 दिनों से किसान दिल्ली की सीमा पर डटे हुए हैं। 37 वर्षीय के शख्स का शव आंदोलन स्थल पर वहीं पाया गया जहां किसानों ने अपना डेरा डाल रखा है। बताया जा रहा है कि वह तीन बच्चों के पिता थे। हाड़ कंपा देने वाली ठंड ने किसान की जान ले ली।

बीते रोज़ सिख संत ने दिल्ली हरियाणा बॉर्डर पर खुद को गोली मारकर आत्महत्या कर ली थी। उन्होंने सूइसाइड नोट में लिखा था कि मोदी सरकार किसानों पर जुल्म कर रही है। आत्महत्या करने वाले संत हरियाणा के एक गुरुद्वारे के संत थे। अब तक इस आंदोलन के दौरान 20 किसानों की मौत हो गई है। लोगों का कहना है कि ठंड की वजह से कई किसानों को जान से हाथ धोना पड़ा।

देश दुनिया की अहम खबरें अब सीधे आप के स्मार्टफोन पर TheHindNews Android App

आंदोलन कर रहे किसानों को बहुत सारे लोग किसानों की मदद करने के लिए कंबल बांट रहे हैं। इस दौरान एक किसान ने कहा, ‘हम ठंड से लड़ रहे हैं और ऐसे ही लड़ते रहेंगे जब तक की हमारी मांगें नहीं मानी जाती।’ पिछले कुछ दिनों में दिल्ली और आसपास के इलाकों में तापमान पांच डिग्री तक गिर गया है। दिन का तापमान भी सामान्य से चार डिग्री तक कम हो जाता है।

सुप्रीम कोर्ट ने दिया कमैटी बनाने आदेश

किसान आंदोलन को लेकर बीते रोज़ सुप्रीम कोर्ट ने सुनवाई की थी और केंद्र सरकार से कमैटी बनाने को कहा था जिसमें सरकार के प्रतिनिधि और किसान नेता शामिल हों। आज फिर अदालत में सुनवाई होनी थी जो कि टल गई है। किसी किसान नेता के न उपस्थित होने की वजह से सुनवाई टल गई। कोर्ट ने कहा है कि किसानों का पक्ष सुनने के बाद ही फैसला सुनाया जाएगा।

सुप्रीम कोर्ट ने कहा था कि किसानों के आंदोलन के अधिकार में दखलअंदाजी नहीं की जा सकती। चीफ जस्टिस ने कहा था कि किसानों के आंदोलन को भी नहीं बाधित करना चाहिए और ऐसा कोई रास्ता निकालना चाहिए जिससे आम लोगों के अधिकार भी न बाधित हों। कोर्ट ने अटॉर्नी जनरल से पूछा कि क्या बातचीत के दौरान सरकार इन कानूनों को होल्ड कर सकती है? इसपर वकील ने कहा कि सरकार से इसपर निर्देश लेने होंगे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here