नई दिल्ली : दिल्ली HC ने सीबीएसई को उसके ‘विद्यार्थी विरोधी रुख’ के लिए फटकार लगाते हुए कहा कि वह कई मामलों में विद्यार्थियों को SC तक ले जाकर उनके साथ ‘शत्रु’ जैसा व्यवहार कर रहा है.

जस्टिस डीएन पटेल और जस्टिस प्रतीक जालान की पीठ ने यह टिप्पणी बोर्ड द्वारा एकल पीठ के फैसले को चुनौती देने वाली याचिका पर सुनवाई करते हुए की.

देश दुनिया की अहम खबरें अब सीधे आप के स्मार्टफोन पर TheHindNews Android App

एकल पीठ ने अपने आदेश में कहा था कि कोविड-19 की वजह से रद्द परीक्षा से प्रभावित विद्यार्थियों के लिए सीबीएसई द्वारा लाई गई पुन: मूल्यांकन योजना अंक सुधार के आवेदकों पर भी लागू होगी.

HC ने कहा, ‘‘हम सीबीएसई का विद्यार्थी विरोधी रुख पसंद नहीं करते, आप विद्यार्थियों को सुप्रीम कोर्ट के दरवाजे पर खींच रहे हैं, वे पढ़ाई करें या अदालत जाएं?

हमें सीबीएसई से मुकदमा खर्च भुगतान करवाना शुरू करना चाहिए,’’ पीठ ने कहा, ‘‘वे विद्यार्थियों के साथ दुश्मन जैसा व्यवहार कर रहे हैं.’’

HC ने ने कहा, ‘‘ कोई भूचाल नहीं आ रहा था कि आप इस समय अदालत आए हैं,’’ पीठ ने कहा कि सीबीएसई को विद्यार्थियों को अदालत में घसीटने की बजाये स्पष्टीकरण के लिए शीर्ष अदालत जाना चाहिए.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here