नई दिल्ली : केजरीवाल सरकार दिल्ली में रहने वाले बेघर लोगों को जल्द ही फ्लैट आवंटन की प्रक्रिया शुरू करेगी, CM केजरीवाल ने इस संबंध में आज अपने आवास पर शहरी विकास मंत्री सतेंद्र जैन और डूसिब के अधिकारियों के साथ महत्वपूर्ण समीक्षा बैठक की.

सीएम ने डूसिब को निर्देश दिया कि अभी तक जितने फ्लैट बन चुके हैं, उन फ्लैट्स को पात्र झुग्गी में रह रहे लोगों को जल्द से जल्द आवंटित कर दिया जाए.

देश दुनिया की अहम खबरें अब सीधे आप के स्मार्टफोन पर TheHindNews Android App

CM ने अधिकारियों को यह भी सुनिश्चित करने के निर्देश दिए कि झुग्गी में रहने वाले लोगों को हर हाल में पांच किलोमीटर के दायरे में ही फ्लैट बना कर दिए जाएं, यदि कहीं पर जमीन प्राप्त करने में अड़चन आ रही है.

तो उन सभी बांधाओं को शीघ्र दूर किया जाए और जल्द से जल्द जमीन चयन की प्रक्रिया पूरी की जाए, ताकि बेघर लोगों को ‘जहां झुग्गी, वहीं मकान’ जल्द से जल्द दिया जा सके.

दिल्ली सरकार बेघर लोगों को फ्लैट बनाकर आवंटित करने को लेकर बेहद गंभीर है, केजरीवाल स्वयं इस पर नजर रख रहे हैं और समय-समय पर डूसिब अधिकारियों और शहरी विकास मंत्री सतेंद्र जैन के साथ कार्य प्रगति को लेकर समीक्षा बैठक करते हैं.

इसी कड़ी में आज मुख्यमंत्री ने अपने आवास पर फ्लैट निर्माण की प्रगति और बन चुके फ्लैट्स के आवंटन प्रक्रिया में तेजी लाने को लेकर समीक्षा बैठक की, शहरी विकास मंत्री और डूसिब अधिकारियों ने ‘जहां झुग्गी, वहीं मकान’ योजना की प्रगति को लेकर विस्तार से CM को जानकारी दी.

सीएम केजरीवाल ने कहा कि ‘जहां झुग्गी, वहीं मकान’ पाॅलिसी दिल्ली सरकार की प्रमुख पाॅलिसी में से एक है.

हमें यह सुनिश्चित करना होगा कि बेघर लोगों के लिए फ्लैट्स का निर्माण समय सीमा के अंदर पूरा कर लिया जाए, ताकि उन्हें आश्रय प्रदान किया जा सकें, साथ ही किसी कीमत पर झुग्गी से पांच किलोमीटर के दायरे में ही मकान मिले.

उल्लेखनीय है कि इससे पहले CM ने नवंबर महीने में शहरी विकास मंत्री और डूसिब अधिकारियों के साथ समीक्षा बैठक की थी, उस दौरान डूसिब के अधिकारियों ने CM के सामने बेघर लोगों को फ्लैट बना कर देने से लेकर उसमें शिफ्ट करने तक का पूरा खाका पेश किया था.

CM केजरीवाल ने बेघर लोगों को फ्लैट में शिफ्ट करने की योजना को मूर्त रूप देने देने के लिए स्पष्ट दिशा निर्देश दिए थे, बेघर लोगों के लिए तीन चरणों में 89,400 फ्लैट बनाने का निर्णय लिया गया है, यह फ्लैट 237 एकड़ भूमि में बनाए जाएंगे.

दिल्ली सरकार पहले चरण में 41,400 फ्लैट बनाएगी, यह 41,400 फ्लैट दिल्ली सरकार के पास वर्तमान में उपलब्ध खाली जमीन पर बनाए जाएंगे, दूसरे चरण में 18,000 फ्लैट बनाए जाएंगे, इसके लिए दिल्ली सरकार के पास जो जमीन उपलब्ध है.

अभी उस जमीन का लैड यूज दूसरी कटेगरी में है, इसलिए सरकार एमसीडी से पहले उस जमीन का लैंड यूज बदलवाएगी और इसके बाद इन फ्लैट्स का निर्माण कराएगी, वहीं, दो चरणों में तैयार किए गए 59,400 फ्लैट में पहले बेघर लोगों को शिफ्ट किया जाएगा.

 उनके शिफ्ट होने के बाद जो जमीन खाली होगी, उसमें तीसरे चरण के तहत 30,000 फ्लैट बनाए जाएंगे, तीनों चरण में फ्लैट निर्माण का कार्य 2022 से 2025 तक पूरा कर लिया जाएगा.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here