नई दिल्लीः राजस्थान कीनागौर लोकसभा सीट से सांसद और राष्ट्रीय लोकतांत्रिक पार्टी के संयोजक हनुमान बेनीवाल ने केन्द्र सरकार द्वारा बनाए तीन कृषि केंद्रीय क़ानूनों के विरोध में एनडीए से समर्थन वापस लेने की घोषणा है। बता दें कि हनुमान बेनीवाल शुरुआत से ही इन तीनों क़ानूनों का विरोध करते रहे हैं। एनडीए में रहते हुए उन्होंने चेतावनी दी थी अगर ये क़ानून वापस नहीं लिये जाते हैं तो वे एनडीए से समर्थन वापस ले लेंगे।

बता दें कि केन्द्र सरकार द्वारा बनाए कृषि सुधार क़ानून के विरोध में किसान एक महीने से आंदोलन कर रहे हैं। दिल्ली के चारों ओर दिल्ली में दाख़िल होने वाले रास्तों पर किसानों का आंदोलन जारी है। टीकरी बॉर्डर, चिल्ला बॉर्डर, सिंघू बॉर्डर, गाज़ीपुर बॉर्डर पर लाखों किसान आंदोलन कर रहे हैं। इन किसानों का आरोप है कि केन्द्र सरकार द्वारा बनाए गए ये क़ानून कृषि का कॉर्पोरेटाईजशन करके किसान को उसी के खेत में गुलाम बनाने के लिये हैं।

देश दुनिया की अहम खबरें अब सीधे आप के स्मार्टफोन पर TheHindNews Android App

यह आंदोलन पंजाब से शुरु हुआ लेकिन इस आंदोलन को हरियाणा, राजस्थान, उत्तर प्रदेश के किसानों का भी समर्थन मिल रहा है। एनडीए सांसद हनुमान बेनीवाल ने एनडीए छोड़ने की घोषणा से पहले दिल्ली की ओर कूच किया है। उन्होंने इस दौरान पत्रकारों से बात करते हुए कहा कि मैंने शुरुआत से ही इन क़ानूनों का विरोध किया है क्योंकि ये क़ानून किसानों के हित में नहीं हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here