Urdu

Epaper Urdu

YouTube

Facebook

Twitter

Mobile App

Home भारत लॉकडाउन: BSNL श्रमिकों को नहीं मिला पिछले 13 महीनों से वेतन

लॉकडाउन: BSNL श्रमिकों को नहीं मिला पिछले 13 महीनों से वेतन

नई दिल्ली/देहरादून: बीएसएनएल के श्रमिकों को पिछले तेरह महीनों से वेतन नहीं मिला है, लॉकडाउन के चलते उनकी जिंदगी और मुश्किल हो गयी है, हालात ये हो गए हैं कि समाजसेवी इनको भोजन पहुंचा कर इनकी मदद कर रहे हैं, ये मामला भी तब सामने आया जब एक समाजसेवी संस्था ने अपनी फेसबुक स्टेटस में डाला कि आज बीएसएनएल के श्रमिकों को मदद पहुंचाई जिन्हें साल भर से वेतन नहीं मिला है ,

कुशल श्रेणी के ये करीब 170 श्रमिक हैं जो डाटा ऑपरेटर, केबल मेंटिनेंस, लाइन मेंटिनेंस, मोबाइल टावर आदि फील्ड वर्क से संबंधित काम करते हैं, काम का समय भी निश्चित है सुबह 10 से शाम 5 बजे, पर शोषण का हाल यह है कि यह सारे काम सुबह 7 बजे से रात भर भी कराए जा सकते हैं, ये सब पहले विभागीय कर्मचारी थे जिनकी नियुक्तियां वर्ष 1996-97 से हुई हैं, पर वर्ष 2005 आते-आते ठेकेदारी प्रथा शुरू होने के चलते विभाग ने इन्हें ठेका मजदूर बनने पर मजबूर कर दिया,

देश दुनिया की अहम खबरें अब सीधे आप के स्मार्टफोन पर TheHindNews Android App

उर्बा दत्त मिश्रा, ललितेश प्रसाद, कैलाश चंद्र, जगदीश प्रसाद, आशीष कुमार, जगत सिंह जीना, शंकर लाल, पंकज दुर्गापाल, चंद्रशेखर पांडे, नवीन कांडपाल बताते हैं कि पहले तो 13 माह से पगार ही नहीं मिली है जो करीब सात हजार रुपए प्रति माह होती है, इसमें अनियमितताओं का हाल यह है कि जब वर्क रेट 11600 रुपए प्रति श्रमिक था तब भी 7 हजार मिलते थे अब वर्क रेट 13500 है तब भी 7 हजार ही मिलते हैं वो भी 13 महीनों से दिए ही नहीं गए हैं, ये बताते हैं कि इसकी शिकायत भी जब इन लोगों ने जिलाधिकारी से की तो उन्होंने श्रम विभाग को लिख दिया, अब तब से वहां के चक्कर लगाना भी उनके काम में जुड़ गया है , मुश्किल यह है कि ठेकेदार से उनका कभी सामना होता नहीं है और विभाग से तनख्वाह की बात करो तो बाहर किए जाने की आशंका बनी रहती है, ऐसी अनियमितताओं के चलते करीब 150 स्थाई श्रमिक भी स्वैच्छिक सेवा निवृत्ति ले चुके हैं, ये सब तब है जब बीएसएनएल के कई एक्सचेंज ( बरेली रोड, लामाचौड़, चोरगलिया, रानीबाग, काठगोदाम आदि जगहों ) में स्थायी श्रमिक नहीं हैं, जिनकी जिम्मेदारी भी इन्हीं पर है जहां ये हर तरह की सेवाएं देने को मजबूर हैं ,  

इस मामले पर जब कर्मचारियों ने ‘सब डिविजनल इंजीनियर’ हेमन्त प्रसाद से बात की तो उनका कहना था कि बेशक ये समस्याएं बनी हुई हैं पर हमारे पास फंड्स की कमी के चलते ये सब हो रहा है, क्योंकि सारी नीतियों का निर्धारण हमारे कॉरपोरेट आफिस दिल्ली से होता है , हम तो अपनी पगार से कुछ कटौती कर इनको भुगतान की बात भी कह चुके हैं, अब ऐसी स्थिति में ये श्रमिक कितने समय तक और ऐसी परिस्थितियों का सामना कर पाएंगे, कैसे अपना परिवार संभाल पाएंगे ये किसी भी अधिकारी के जेहन में नहीं है

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Must Read

UP : सपा हाई-कमान ने साहुन खान को तीसरी बार मथुरा का जिलाध्यक्ष बनाकर जताया भरोसा

मथुरा (यूपी) : नवनियुक्त जिलाध्यक्ष सयुस साहुन खान का मथुरा व कोसी कलां व छाता व कोटवन पहुंचने पर कार्यकर्ताओं ने फूल...

दिल्ली : विधायक कोटे से बोर्ड सदस्य का चुनाव 25 अगस्त को, पूर्व चेयरमैन अमानतुल्लाह खान का जीतना तय

नई दिल्ली (हिन्द न्यूज़) : लगभग पिछले 5 माह से खाली पड़े दिल्ली वक़्फ़ बोर्ड के अध्यक्ष पद को जल्द ही चेयरमैन...

6 साल की मासूम बच्ची के साथ हुए दुष्कर्म को लेकर कांग्रेस का धरना प्रदर्शन, दोषियों को जल्द नहीं पकड़ा तो दोबारा आंदोलन करेंगे...

नई दिल्ली : सोमवार को राष्ट्रीय महासचिव व उत्तर प्रदेश कांग्रेस कमेटी की प्रभारी श्रीमती प्रियंका गांधी और उत्तर प्रदेश कांग्रेस कमेटी...

आँडियो रिकाॅर्डिंग से साफ है, महिला पार्षद के जेठ निशांत पांडे ने अलग-अलग मामलों में बिल्डर समेत तीन लोगों से लाखों रुपये लिए :...

नई दिल्ली : आम आदमी पार्टी ने भाजपा शासित एमसीडी में चल रहे भ्रष्टाचार का बड़ा खुलासा किया है। पार्टी के वरिष्ठ...

लेख : “तहजीब मर जाने की कहानी है अयोध्या” : विवेक कुमार

कहते हैं अयोध्या में राम जन्मे. वहीं खेले कूदे बड़े हुए. बनवास भेजे गए. लौट कर आए तो वहां राज भी किया....