नई दिल्ली : NEET-JEE परीक्षा के मसले पर दाखिल पुनर्विचार याचिका की सुनवाई पर सुप्रीम कोर्ट कल फैसला लेगा, निर्धारित प्रक्रिया के मुताबिक जज बंद चैंबर में याचिका देख तय करेंगे कि इसे खुली अदालत में लगाना है या नहीं, 17 अगस्त को SC ने परीक्षा रोकने से मना किया था, गैर बीजेपी शासित 6 राज्यों के मंत्री ने पुनर्विचार याचिका दाखिल की है.

याचिका दाखिल करने वाले मंत्री हैं- बंगाल के मोलॉय घटक, झारखंड के रामेश्वर उरांव, छत्तीसगढ़ के अमरजीत भगत, पंजाब के बलबीर सिद्धू, महाराष्ट्र के उदय सामंत और राजस्थान के रघु शर्मा हैं, इससे पहले सायंतन बिस्वास समेत 11 छात्रों ने सुप्रीम कोर्ट में याचिका दायर कर कहा था कि नेशनल टेस्टिंग एजेंसी ने 1 से 6 सितंबर के बीच मेन और 13 सितंबर को NEET की परीक्षा आयोजित करने की घोषणा की है, देश में जिस रफ्तार से इस समय कोरोना फैल रहा है; उसके मद्देनजर अभी परीक्षा का आयोजन छात्रों और उनके परिवार को स्वास्थ्य को गंभीर खतरा पैदा कर सकता है, इसलिए, स्थिति सामान्य होने तक परीक्षा स्थगित कर दी जाए.

देश दुनिया की अहम खबरें अब सीधे आप के स्मार्टफोन पर TheHindNews Android App

17 अगस्त को मामला जस्टिस अरुण मिश्रा की अध्यक्षता वाली 3 जजों की बेंच के सामने लगा, लेकिन कोर्ट ने राष्ट्रीय स्तर पर मेडिकल और इंजीनियरिंग में दाखिले के लिए होने वाली इन परीक्षाओं को स्थगित करने का आदेश देने से मना कर दिया, 1 सितंबर से JEE की परीक्षा शुरू हो चुकी है, इसलिए, उस पर इस याचिका का असर नहीं होगा, NEET परीक्षा 13 सितंबर को है, अगर कोर्ट सुनवाई के लिए सहमत होता है तो उस पर असर पड़ सकता है.

रिपोर्ट सोर्स, पीटीआई

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here