नई दिल्लीः शुक्रवार को कांग्रेस ने देश के कई हिस्सों में किसान अधिकारी रैली निकाली। देश की राजधानी दिल्ली में पूर्व कांग्रेस सांसद राहुल गांधी के साथ उनकी बहन प्रियंका गांधी भी इस रैली में शामिल हुईं। दोनों ने ट्रक पर सवार होकर राज भवन मार्च में हिस्सा लिया। रैली के दौरान राहुल और प्रियंका उन सांसदों (पंजाब के) से भी मिले जो जंतर-मंतर पर बैठकर तीनों कृषि कानूनों का विरोध कर रहे थे।

राहुल गांधी ने दिल्ली राज भवन के बाहर प्रदर्शन का नेतृत्व करते हुए कहा कि कृषि कानून किसानों की मदद करने के लिए नहीं, बल्कि किसानों को खत्म करने के लिए हैं। भाजपा सरकार को कृषि कानून वापस लेने ही होंगे। कानूनों को रद्द किए जाने तक कांग्रेस चुप नहीं बैठेगी। कांग्रेस सांसद ने कहा कि, “देश की आजादी अंबानी-अडाणी ने नहीं, किसान ने अपने खून से दी है। जिस दिन खाद्य सुरक्षा चली जाएगी, उस दिन देश की आजादी चली जाएगी। हिंदुस्तान की सरकार को ये बात नहीं समझ आ रही है, पर किसान अब यह बात समझ गए हैं।”

देश दुनिया की अहम खबरें अब सीधे आप के स्मार्टफोन पर TheHindNews Android App

राहुल ने कहा कि ये तीनों कानून किसानों के खात्मे के लिए लाए गए हैं। अगर हमने इन्हे न रोका, तब ये अन्य क्षेत्रों मे भी होगा। नरेंद्र मोदी किसानों का सम्मान नहीं करते। अन्नदाता न तो किसी को काम करने से रोकेंगे और न ही डरेंगे। उधर यूपी की राजधानी लखनऊ में भी कांग्रेस ने प्रदर्शन किया। कांग्रेस के यूपी प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष अजय कुमार लल्लू तीन कृषि कानूनों के खिलाफ विरोध करने जा रहे थे, लेकिन उन्हें इससे पहले ही हिरासत में ले लिया गया।

अजय लल्लू के साथ पार्टी के अन्य कार्यकर्ताओं को भी पुलिस ने हिरासत में ले लिया। कांग्रेस के यूपी प्रवक्ता ने बताया कि पार्टी के ‘किसान अधिकार कार्यक्रम’ के तहत प्रदेश अध्यक्ष अजय कुमार लल्लू शुक्रवार दोपहर बाद पार्टी कार्यकर्ताओं के साथ राजभवन का घेराव करने जा रहे थे तभी डालीबाग के पास से पुलिस ने उन्हें हिरासत मे ले लिया। राजभवन की ओर जुलूस के रूप मे जा रहे पार्टी कार्यकर्ता ‘जय जवान जय किसान’ का नारा लगा रहे थे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here