नई दिल्ली: कांग्रेस प्रवक्ता सुरजेवाला ने कहा था, ‘कांग्रेस नेतृत्व ने सचिन पायलट से दो बार बात की, संगठन महासचिव केसी वेणुगोपाल और कांग्रेस कार्यसमिति के वरिष्ठ सदस्यों ने भी कई बार पायलट से बात की, हमने पायलट और अन्य विधायकों से अपील की कि उनके लिए सारे दरवाजे खुले हुए हैं लेकिन वे बीजेपी के षड्यंत्र में फंसकर राजस्थान सरकार को गिराने की साज़िश में शामिल हो गए,’ सुरजेवाला ने कहा कि इसे क़तई स्वीकार नहीं किया जा सकता, 

पायलट पर की जा रही कार्रवाई से नई ऊँचाई पर पहुँची राजस्थान कांग्रेस में तल्खी के बीच ही उन्होंने कहा, ‘मैं बीजेपी में शामिल नहीं हो रहा हूँ, मैं यह स्पष्ट करना चाहूँगा कि मेरी बीजेपी में शामिल होने की कोई योजना नहीं है, मुझे बीजेपी से जोड़ने का प्रयास मुझे कांग्रेस आलाकमान की नज़र में बदनाम करना है,’ कांग्रेस में लगातार कार्रवाई का सामना कर रहे पायलट ने कहा कि मैं अभी भी कांग्रेस का सदस्य हूँ,

देश दुनिया की अहम खबरें अब सीधे आप के स्मार्टफोन पर TheHindNews Android App

सचिन पायलट रविवार को तब बग़ावत पर उतर आए थे जब उनके प्रतिद्वंद्वी मुख्यमंत्री अशोक गहलोत के साथ उनकी अंदरुनी लड़ाई खुलकर सामने आ गई, राजस्थान एटीएस और स्पेशल ऑपरेशन ग्रुप ने शुक्रवार को सचिन पायलट को नोटिस जारी किया था, मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने कहा था कि राजस्थान सरकार को अस्थिर करने की कोशिश की जा रही है, गहलोत ने यह भी कहा था कि बीजेपी कांग्रेस के हर विद्रोही विधायक को 15 करोड़ रुपए का प्रलोभन दे रही है, इसके बाद ही पायलट को नोटिस मिला है,

इस नोटिस के बाद दोनों नेताओं के बीच कटुता काफ़ी ज़्यादा बढ़ गई, इसी बीच सचिन पायलट अपने समर्थक 19 विधायकों के साथ रविवार सुबह ही दिल्ली पहुँच गए थे, तब कहा जा रहा था कि वह वहाँ पार्टी हाई कमान से मुलाक़ात कर मुख्यमंत्री अशोक गहलोत पर दबाव बनाने की कोशिश में हैं

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here