नई दिल्ली: कोविड-19 महामारी में यह व्यापक तौर से देखा जा रहा है कि वरिष्ठ नागरिकों के जीवन पर इसका सबसे अधिक प्रभाव पड़ा है। ऐसे में राजेंद्र नगर निर्वाचन क्षेत्र के निवासी वायु सेना में रह चुके 88 वर्षीय एक बुजुर्ग की कहानी काफी प्रेरणादायक है। राजेंद्र नगर इलाके में अपने परिवार के साथ रहने वाले केएस जायसवाल कोविड -19 को हराने वाले दिल्ली के सबसे बुजुर्ग व्यक्ति बन गए हैं। जायसवाल का बेटा दलबीर सर गंगाराम अस्पताल में काम करता है और कोरोना रोगियों के सीधे संपर्क में आने से वह संक्रमित हो गया। इसके अलावा, उनका परिवार भी संक्रमित हो गया और वे सभी एक ही अस्पताल में भर्ती हो गए।

परिवार पूरी तरह से ठीक हो गया है और हाल ही में अस्पताल से छुट्टी मिलने के बाद घर वापस आ गया है। राजेंद्र नगर निर्वाचन क्षेत्र के विधायक राघव चड्ढा ने वीडियो कॉल के माध्यम से उन लोगों से बातचीत की और उन्हें बीमारी पर जीत के लिए बधाई दी।

देश दुनिया की अहम खबरें अब सीधे आप के स्मार्टफोन पर TheHindNews Android App

विधायक राघव चड्ढा से जायसवाल ने अपना अनुभव साझा किया और सभी को यह भी बताया कि बीमारी से डरने की कोई जरूरत नहीं है। सभी को सावधानी बरतनी चाहिए और अपनी जीवन शैली में योग जैसी स्वस्थ आदतों को शामिल करना चाहिए। राघव उनसे बात करने के दौरान भावुक होते हुए दिखाई दिए और केजरीवाल सरकार की ओर से उन्हें इस संकट की घड़ी में हर संभव सहायता करने का आश्वासन दिया। श्री जायसवाल ने कोविड -19 के खिलाफ इस लड़ाई में मुख्यमंत्री श्री अरविंद केजरीवाल के कुशल नेतृत्व में दिल्ली सरकार के प्रयासों की प्रशंसा की।

विधायक राघव चड्ढा ने कहा, ‘वायु सेना में रहे केएस जायसवाल जी को कोविड -19 से पार पाते हुए और एक विजयी योद्धा के रूप में उभरना पूरी तरह से अपरिहार्य है। उनकी लड़ाई हमें बहुत प्रेरणा देती है। हम सौभाग्यशाली हैं कि श्री जायसवाल हमारे राजेंद्र नगर निर्वाचन क्षेत्र के निवासी हैं।

उन्होंने आगे कहा कि श्री अरविंद केजरीवाल के नेतृत्व में दिल्ली सरकार में, हम सभी मरीजों की हर संभव चिकित्सा देखभाल सुनिश्चित करने के लिए अथक प्रयास कर रहे हैं। श्री जायसवाल द्वारा दिखाया गया साहस हम सभी के लिए मनोबल बढ़ाने का काम करेगा और हमें और अधिक परिश्रम करने के लिए प्रेरित करता है। उन्होंने दिखाया है कि कोई भी इस बीमारी से लड़ सकता है और विजयी बन सकता है। कोविड -19 के सभी रोगी भी 88 वर्षीय वायु सेना के दिग्गज से प्रेरणा लेंगे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here