लखनऊ (यूपी) : समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव के निर्देश पर आज समाजवादी सांस्कृतिक प्रकोष्ठ द्वारा ‘कलाकार घेरा‘ कार्यक्रम प्रदेश के सभी जनपदों में सफलतापूर्वक सम्पन्न हुआ।

कलाकारों ने भाजपा राज में कलाकारों के उत्पीड़न के खिलाफ अपनी कलात्मक अभिव्यक्ति से विरोध प्रदर्शन किया। कलाकारों ने अभिव्यक्ति स्वतंत्रता और कलाओं के राजनीतिकरण के खिलाफ सत्तादल की साजिशों की निंदा करते हुए भाजपा सरकार को भी हटाने का संकल्प दुहराया।

देश दुनिया की अहम खबरें अब सीधे आप के स्मार्टफोन पर TheHindNews Android App

लखनऊ में समाजवादी सांस्कृतिक प्रकोष्ठ के राष्ट्रीय महासचिव श्री अच्छे लाल सोनी की उपस्थिति में लखनऊ महानगर एवं लखनऊ जिला में कलाकार घेरा कार्यक्रम में बड़ी संख्या में कलाकारों ने भागीदारी की।

लखनऊ महानगर में गिरजेश श्रीवास्तव, जहीर अब्बास, वर्षा श्रीवास्तव, मोहम्मद शरीफ उर्फ बल्ले तथा जिला में प्रकोष्ठ अध्यक्ष राजकुमार यादव उर्फ गुड्डन यादव और उनके साथियों ने गीत संगीत के साथ भाजपा विरोध को स्वर दिया और समाजवादी आंदोलन का महत्व बताया।

गाजीपुर में सांस्कृतिक प्रकोष्ठ के काशीनाथ यादव, पारस नाथ यादव, विजय यादव के नेतृत्व में कलाकार घेरा कार्यक्रम का आयोजन किया गया। आजमगढ़ में सांस्कृतिक प्रकोष्ठ के प्रदेश अध्यक्ष धर्मेन्द्र सोलंकी भुर्जी और अशोक के नेतृत्व में कलाकारो ने बैठक कर कलाकारों के साथ भाजपा सरकार के अपमान जनक व्यवहार को शर्मनाक बताया।

प्रयागराज में जिला सांस्कृतिक प्रकोष्ठ अध्यक्ष अभयराज यादव के साथ प्रियंका माधुरी, सूरज यदुवंशी, श्याम शंकर, रानी गुप्ता, प्रदीप नारायण, राजपटेल, हरगोविन्द, संदीप, जंगबली तथा अन्य कई कलाकारों ने घेरा कार्यक्रम को सफल बनाया।

गोरखपुर में रामहेतु यादव प्रकोष्ठ अध्यक्ष के साथ लालबहादुर और उनके साथियों ने कलाकार घेरा के आयोजन में कलाकारो के साथ भाजपा सरकार द्वारा अपमान जनक व्यवहार किए जाने का उल्लेख किया और सन् 2022 में समाजवादी पार्टी की सरकार बनाने का संकल्प लिया।

वाराणसी में जिला सांस्कृतिक प्रकोष्ठ अध्यक्ष श्री दिनेश यादव के साथ सर्वश्री उपेन्द्र यादव, अश्विनी चौहान, पंकज पाल पुजारी ने और वाराणसी महानगर में अचल राघवानी, विकास बाबर, स्वाती विश्वकर्मा, नंदिनी विश्वकर्मा तथा नाट्य कलाकार देवमेष शुक्ला एवं तापस शुक्ला ने प्रस्तुतियां दी तथा भाजपा की कलाकार विरोधी नीतियों की निंदा की।

प्राप्त सूचनाओं के अनुसार हापुड़ में यूसुफ राजा, महाराजगंज में राजाराम भारती, बस्ती में जोखू लाल यादव, मुजफ्फरनगर में सिद्धांत विध्यांचल, डॉ0 इसरार अल्वी, मिर्जापुर में राजेश यादव, कुशीनगर में नजुबल्लाह राही, मऊ में हरिकेश यादव, कलाकार घेरा कार्यक्रम में सिद्धार्थनगर में हरीलाल यादव, अयोध्या में रामस्वरूप के नेतृत्व में गीत-संगीत के साथ भाजपा का विरोध हुआ।

बरेली में कलाकार घेरा कार्यक्रम में भाजपा विरोधी नुक्कड़ नाटक भी हुआ। इस कार्यक्रम में राम औतार यादव, बिलाल खां, विशाल अग्रवाल, शमीम खां सुल्तानी, मयंक शुक्ला, संजय शास्त्री, समीर जैदी, उमेश मौर्य, सुनील गुप्ता, धर्मेन्द्र कुमार, शीतल सैनी एवं आशीष रावत आदि द्वारा भाजपा विरोधी गीत गाये गए।

एकमत होकर कलाकारों ने कहा कि वर्तमान सत्तारूढ़ भाजपा द्वारा आरएसएस की विचारधारा को आगे बढ़ाने के लिए कलाकारों पर अनुचित दबाव बनाया जाता है। कलाकारो के मानदेय और पेंशन में भेदभाव किया जाता है।

कलाओं की विविधता को भाजपा राज में खतरा पैदा हो गया है। कलाकार की स्वतंत्रता का दमन किया जा रहा है और विरोध का स्वर उठाते ही कलाकार के खिलाफ एफआईआर और आरोप पत्र दर्ज हो जाता है।

कलाकार घेरा कार्यक्रम में बड़ी संख्या में एकत्र कलाकारों ने संकीर्ण सोच वाली भाजपा को सत्ता से हटाने और सन् 2022 के चुनावों में अखिलेश यादव के नेतृत्व में समाजवादी सरकार बनाने का दृढ़ संकल्प दुहराया।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here