पटना (बिहार) : बिहार में भारत बंद के दौरान नेता प्रतिपक्ष तेजस्वी यादव के नदारद रहने का मामला सियासी रंग ले चुका है, दोनों पक्ष वार-पलटवार करते हुए अपनी-अपनी बातों को मजबूती से रख रहे हैं.

सुशील कुमार मोदी ने कहा कि तेजस्वी भी अब राहुल गांधी का अनुकरण कर रहे हैं, सुशील ने कहा, ‘भारत बंद का आह्वान करके नेता प्रतिपक्ष खुद दिल्ली चले गए ठीक वैसे ही जैसे राहुल गांधी को जैसे मौका मिलता है वो विदेश चले जाते हैं.

देश दुनिया की अहम खबरें अब सीधे आप के स्मार्टफोन पर TheHindNews Android App

तेजस्वी दिल्ली चले जाते हैं,’ बिहार के चुनाव के समय भी राहुल गांधी शिमला में 5 दिन आराम करने चले गए थे.

सुशील मोदी ने तंज भरे अंदाज में कहा, ‘इसी तरह वर्ष 2019 में बिहार में चमकी बुखार से बच्चों की मौत हुई तो नेता प्रतिपक्ष नहीं दिखाई दिए थे.

वर्ष 2019 में ही पटना डूबा तब भी नेता प्रतिपक्ष दिखाई नहीं दिए, हमारी भगवान से यही कामना है ऐसे ही नेता प्रतिपक्ष हमेशा रहे ताकि हमें सरकार में रहने का मौका मिलता रहे.’

सुशील मोदी ने कांग्रेस को भी अपने निशाने पर लेते हुए कहा, ‘कांग्रेस ने अपने घोषणा पत्र में एपीएमसी एक्ट को खत्म करने की बात कही थी, पंजाब के किसानों के साथ अन्य राज्यों के किसान खड़े नहीं हैं.’

उन्होंने यह कहा कि हम आपकी मांग पर सहानुभूतिपूर्वक विचार कर सकते हैं, मगर कुछ लोग किसानों के नाम पर राजनीति कर रहे हैं,

उन्होंने दावा किया कि हारे हुए हताश निराश लोगों को जनता ने नकार दिया है उनके सामने हम नहीं झुकेंगे, मोदी झुकने वाले PM नहीं हैं.

उन्होंने राहुल पर तंज कसते हुए कहा कि जो हर मौके पर लापता हो जाते हैं वह मोदी को छू भी नहीं सकते हैं.

सुशील मोदी ने कहा कि बाजार समिति कानून को 2006 में ही बिहार ने रद्द किया था, ऐसा करने वाला देश का पहला राज्य बिहार था, बिहार में बाजार समिति को खत्म करने के बाद उसका विकास काफी तेजी से हुआ था.

बाजार समिति को खत्म कर हमने व्यापारियों के चंगुल से किसानों को निकाला, सुशील मोदी ने यह भी दावा किया कि बिहार की सरकार पूरे पांच साल चलेगी, इस सरकार को कोई हिला नहीं सकता है.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here