नई दिल्लीः किसान आंदोलन को आज़ाद समाज पार्टी के सुप्रीमो एंव भीम आर्मी के संस्थापक चंद्रशेखर आज़ाद का साथ भी मिल गया है। चंद्रशेखर आज सुबह सिंधु बॉर्डर पर धरने पर बैठे किसानों के बीच पहुंचे। उन्होंने कहा कि, “अगर सरकार तानाशाह हो जाती है तो लोगों को सड़कों पर उतरना चाहिए। हम अपने किसानों का समर्थन करने के लिए यहां हैं और अंत तक उनके साथ खड़े रहेंगे।”

उन्होंने कहा कि किसान जमीन को मां कहते हैं, उस मां को उससे छीनने की तैयारी है। पूरी मार्केट को अडानी-अंबानी को सौंपने की तैयारी हो चुकी है। ईस्ट इंडिया कंपनी दोबारा से आ रही है, इस पर मोदी जी इसे लेकर आ रहे हैं।

देश दुनिया की अहम खबरें अब सीधे आप के स्मार्टफोन पर TheHindNews Android App

गाजीपुर भी पहुंचे थे चंद्रशेखर

जानकारी के लिये बता दें कि चंद्रशेखर आज़ाद इससे पहले मंगलवार को गाजीपुर बॉर्डर पर भी पहुंचे थे, जहां उन्होंने भारतीय किसान आंदोलन के नेतृत्व में जारी किसान आंदोलन में शिरकत की थी। बता दें कि हाल ही में केन्द्र सरकार द्वारा बनाए कृषि सुधार क़ानून के विरोध में पंजाब, हरियाणा और पश्चिमी उत्तर प्रदेश के किसान आंदोलन कर रहे हैं। किसानों का आरोप है कि इन क़ानून के बाद कृषि को पूंजीपतियों के हाथों में सौंपा जाने की तैयारी की जा रही है।

इसके अलावा किसानों की एक मांग यह भी है कि किसानों का फसलों का एमएसपी दिया जाए, नए कृषि सुधार क़ानून में एमएसपी का कोई ज़िक्र नहीं है, इसके खिलाफ भी किसानों का गुस्सा चरम पर है। दो रोज़ पहले किसानों आंदोलन के नेताओं ने केन्द्रीय कृषि मंत्री से भी मुलाक़ात की थी। विज्ञान भवन में किसानओं और सरकार के लोगों के बीच चली यह वार्ता बेनतीजा रही, जिसके बाद किसान वापस आंदोलन स्थल के लिये लौट गए थे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here