Urdu

Epaper Urdu

YouTube

Facebook

Twitter

Mobile App

Home भारत सवा करोड़ रोजगार का सच- प्रियंका गांधी

सवा करोड़ रोजगार का सच- प्रियंका गांधी

प्रियंका गांधी वाड्रा 

बनारस में लगभग 2000 करोड़ रुपये का सिल्क का कारोबार है। कोरोना संकट के पहले से ही कराह रहे सिल्क उद्योग में एक लाख अकुशल मजदूरों की छंटनी हो चुकी है। वेतन में 10% से लेकर 50% तक की कटौती की गयी है। सिल्क कारोबारियों का कहना है कि उनके पास मजदूरों की कमी नहीं पर आर्डर ही नहीं।

देश दुनिया की अहम खबरें अब सीधे आप के स्मार्टफोन पर TheHindNews Android App

भदोही के कालीन उद्योग में निर्यात आर्डर शून्य पर हैं। यहाँ से लगभग 1200 करोड़ रुपये का कालीन निर्यात होता था और 99 फीसदी माल विदेश जाता है। यहां कुशल बुनकर के अलावा दो लाख अकुशल मजदूर काम करते थे मगर अब बताया जा रहा है कि मात्र 25 से 30 हजार ही काम कर रहे हैं।

देश की सबसे बड़ी आगरा की दो बड़ी जूता मंडी बिजलीघर व हींग मंडी में सन्नाटा है। अकेले आगरा में तीन लाख जूते के दस्तकार घरों में बैठे हैं। कोई काम नहीं है।

पर्यटन उद्योग की भी यही दास्तां है।

ताजमहल में हर दिन 3500-4000 पर्यटक आते हैं। पिछले वित्तीय वर्ष में लगभग 70 लाख पर्यटक ताजमहल देखने आए। आगरा की अर्थव्यवस्था का बड़ा हिस्सा ताजमहल और पर्यटन पर निर्भर है।

पर्यटन पर निर्भर लोगों के लिए सरकार की तरफ से राहत देने का एक भी कदम नहीं उठाया गया।

सावन में चूड़ियों की बिक्री उफान पर होती है पर फिरोजाबाद में चूड़ी कारीगरों के पास काम नहीं। बाहर से आर्डर बहुत कम हैं। ढाई लाख कारीगर बेकार हो गए हैं।

देश भर में चमड़े का हब कहे जाने वाले कानपुर में सरकार ने पहले 26 मई को सारी टेनरियाँ खुलवाईं मगर फिर पाँच दिनों बाद ही आधी से ज्यादा टैनरियां सरकार ने बंद करा दीं। यहां ढाई से तीन लाख मजदूर बेकार हो गए।

कानपुर के होजरी उद्योग में 50 फीसदी श्रमिकों के बूते काम हो रहा है। इनके पास ऑर्डर हैं मगर मैनपॉवर नहीं है। 

स्पोर्ट्स गुड्स के लिए मशहूर मेरठ में 60000 श्रमिकों के पास कोई काम नहीं। तीन महीने से स्टेडियम बंद, खेल गतिविधियां बंद हैं नतीजन स्पोर्ट्स गुड्स के कारखाने भी बंद हैं।

लखनऊ में चिकन के कपड़े के कारीगर पहले नोटबंदी में रिक्शाचालक बने और अब तालाबंदी में सब्जी बेंचने लगे हैं। ईद, गर्मी जैसे सीजन में चिकन के कपड़ों की बिक्री न के बराबर रह गयी।

मुद्रा योजना के तहत लोगों को रोजगार देने का चालाकी से ढिंढोरा पीटा जा रहा है मगर ज़मीनी सच्चाई कुछ और है।  

‘एक जिला एक उत्पाद’ के तहत हस्तशिल्प को बढ़ावा देने और रोजगार देने की बात कही जा रही है। मगर इस योजना का कुल बजट ही 100 करोड़ रुपये का है जिसका बड़ा हिस्सा प्रचार पर ही खर्च हो जाता है।

मनरेगा के तहत महज 100 दिन रोजगार देने की व्यवस्था है उसमें भी मजदूरी बहुत देर से मिल रही है। ऐसी स्थिति में, कोरोना काल कैसे मजदूरों के घर नियमित चूल्हा जलेगा? 

खबरों के मुताबिक जगह जगह मनरेगा में अपात्रों के फर्जी जॉब  कार्ड बनाने का काम ज़ोरों पर है। केवल प्रचार, फोटोसेशन व आंकड़े दिखाने के लिए मनरेगा के नाम लेकर झूठे दावे किए जा रहे हैं।

किसी से छुपा नहीं है कि मंदी के इस दौर में भवन निर्माण की गतिविधियां कितनी हो रही है और कितने मजदूरों को काम मिल रहा है।

हमारी लगातार मांग रही है कि दस्तकारों, हस्तशिल्पियों और छोटे मझोले उद्योगों में काम करने वाले लोगों को सरकार हर महीने 10000 ₹ की राहत दे ताकि उनका जीवन यापन हो सके।

अपने श्रमिकों को मंदी के चलते वेतन दे पाने में अक्षम छोटे उद्यमियों को आर्थिक सहायता वेतन की भरपाई के लिए दी जाए।

मनरेगा में काम की अवधि 100 दिन से बढ़ाकर 200 दिन किया जाए। मनरेगा श्रमिकों को अविलंब भुगतान की व्यवस्था की जाए। और निर्माण से जुड़े समस्त सरकारी कार्यों में मनरेगा मजदूरों को काम दिया जाए।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Must Read

डाॅ. जोगिंदर के परिजनों को एक करोड़ रुपये की सहायता राशि दी, भविष्य में भी परिवार की हर संभव मदद करेंगे : CM केजरीवाल

नई दिल्ली: मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने आज डाॅ. बाबा साहब अंबेडकर मेडिकल हाॅस्पिटल एंड काॅलेज में एड-हाॅक पर जूनियर रेजिडेंट रहे कोरोना...

गुजरात : पत्रकार कलीम सिद्दीकी को तड़ीपार का नोटिस, देश भर में हो रही है आलोचना, बोले कलीम- ‘नोटिस कानून व्यवस्था पर प्रश्न चिन्ह’

ऩई दिल्ली/अहमदाबाद : 30 जुलाई को पत्रकार कलीम सिद्दीकी अहमदाबाद शहर के एसीपी कार्यालय में उपास्थि हो कर तड़ीपार मामले में अपना...

बिहार: तेज प्रताप यादव ने किया बाढ़ प्रभावित इलाकों का दौरा, बोले- ‘CM का सारा सिस्टम हो गया फेल, बिहार की जनता बेहाल’

नई दिल्ली/बिहार: बिहार इस समय दो-दो आपदाओं की मार झेल रहा है, कोरोना के साथ ही बाढ़ से त्राहिमाम मचा हुआ है,...

भोपाल : बोले दिग्विजय सिंह- “राम मंदिर का शिलान्यास कर चुके हैं राजीव गांधी”

नई दिल्ली/भोपाल : राज्यसभा सांसद दिग्विजय सिंह ने अयोध्या में राम मंदिर के शिलान्यस के मुहूर्त को लेकर सवाल उठाए हैं, उन्होंने 5...

सहसवान : नगर अध्यक्ष शुएब नक़वी आग़ा ने मनाया रक्षा बंधन पर्व, पेश की गंगा-जमुनी तहजीब की मिसाल

सहसवान/बदायूँ (यूपी) : रक्षाबंधन पर्व की यही विशेषता है कि यह धर्म-मज़हब की बंदिशों से परे गंगा-जमुनी तहज़ीब की नुमाइंदगी करता है,...