Urdu

Epaper Urdu

YouTube

Facebook

Twitter

Mobile App

Home भारत UP: प्रवासी मज़दूरों के पैदल चलने पर रोक, सीमाएँ सील, हज़ारों फँसे

UP: प्रवासी मज़दूरों के पैदल चलने पर रोक, सीमाएँ सील, हज़ारों फँसे

नई दिल्ली: 48 घंटों में घर वापसी कर रहे 60 से ज़्यादा मज़दूरों की सड़कों पर कुचल कर हुई मौत के बाद योगी सरकार ने शहरों की सीमाएँ सील कर पैदल या अन्य गाड़ियों से आ रहे मज़दूरों को रोक दिया है, मुख्य सचिव आरके तिवारी ने शनिवार दोपहर एक आदेश जारी कर पैदल, मिनी ट्रक, ट्रक, मेटाडोर, ऑटो, साइकिल या किसी अन्य निजी वाहन से मज़दूरों के आने पर रोक लगा दी है, आदेश में पुलिस कप्तानों पर ज़िलाधिकारियों से कहा गया है कि उन्हें 200 बसें प्रत्येक ज़िले में दी जाएँगी जिससे मज़दूरों को उनके घर तक भेजा जा सके,

मुख्य सचिव के इस आदेश के बाद लखनऊ की सीमा को सील कर दिया गया है, इसके बाद लखनऊ कानपुर हाईवे पर उन्नाव के क़रीब 10 किलोमीटर लंबा जाम लग गया, बीते सात घंटे से इस राजमार्ग पर भीषण जाम की स्थिति है और कम से कम छह हज़ार मज़दूर फँसे हुए हैं, लखनऊ की सीमा में घुसने का प्रयास कर रहे मज़दूरों को रोकने के लिए पुलिस के साथ ही पीएसी को भी बुलाना पड़ा है, लखनऊ कानपुर सीमा पर मज़दूरों से भरी गाड़ियों की कतारें लगी हैं, भीषण गर्मी में फँसे कई मज़दूरों की तबियत भी खराब हुई है,

देश दुनिया की अहम खबरें अब सीधे आप के स्मार्टफोन पर TheHindNews Android App

घंटों लंबे जाम के बाद लखनऊ व उन्नाव के ज़िला प्रशासन ने सड़कों पर आ रहे मज़दूरों को स्थानीय राजकीय इंटर कॉलेज में भरना शुरू कर दिया है, प्रशासन का कहना है कि यहाँ से मज़दूरों को उनके घर के लिए सरकारी बसों में भेजा जाएगा, हालाँकि देर रात तक सभी मज़दूरों को भेजने का काम शुरू नहीं हो पाया था, उधर मध्य प्रदेश से आ रहे मज़दूरों को भी झाँसी के पास रोका गया है, इसके साथ ही कई अन्य जगहों पर भी मज़दूरों को रोके जाने की ख़बर है,

शनिवार तड़के उत्तर प्रदेश में कानपुर के क़रीब औरैय्या में ज़बरदस्त सड़क दुर्घटना में अपने घर को लौट रहे 26 मज़दूरों की मौत हो गयी थी, इसके तुरंत बाद मध्य प्रदेश से आ रहे यूपी के पाँच मज़दूर बांदा में सीमा पर कुचल कर मारे गए, शनिवार दोपहर में आगरा एक्सप्रेस वे पर उन्नाव के बांगरमऊ में दो मज़दूर कुचल कर मर गए, प्रयाग में घर वापसी कर रहे एक मज़दूर की मौत दुर्घटना में हो गयी, इससे पहले के 24 घंटों में अलग-अलग घटनाओं में 26 मज़दूरों की सड़क दुर्घटना में मौत हो गयी थी, बीते 48 घंटों में 60 से ज़्यादा मौतों के बाद योगी सरकार ने पैदल चलने या किसी निजी वाहन से चलने पर पूरी तरह से रोक लगाते हुए इसे रोकने का ज़िम्मा ज़िला प्रशासन को सौंप दिया,

उधर कांग्रेस महासचिव और यूपी प्रभारी प्रियंका गाँधी ने शनिवार दोपहर मुख्यमंत्री को पत्र भेज माँग की कि उन्हें नोयडा और गाज़ियाबाद बॉर्डर से 500-500 बसें चलाने की इजाज़त दी जाए, प्रियंका ने मज़दूरों को भेजने के सरकारी प्रयासों को नाकाफ़ी बताते हुए पार्टी की ओर से बसें चलाने की इजाज़त माँगी, प्रियंका की चिट्ठी लेकर कांग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष अजय कुमार लल्लू और विधानमंडल दल की नेता आराधना मिश्रा ख़ुद मुख्यमंत्री कार्यालय गए, देर रात तक कांग्रेस को बसें चलाने की इजाज़त नहीं दी गयी थी

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Must Read

अमेरिका ने किया WHO से हटने का ऐलान, राष्ट्रपति उम्मीदवार बाइडन ने किया विरोध

नई दिल्ली: कोरोना महामारी के बीच अमेरिका विश्व स्वास्थ्य संगठन छोड़ रहा है, वह अपने फैसले पर पुनर्विचार करने को तैयार नहीं...

WHO ने भी माना- ‘कोरोना का हो सकता है हवा से संक्रमण, मिले हैं सबूत’

नई दिल्ली:  कोरोना वायरस का खतरा दिन प्रतिदिन दुनिया में बढता जा रहा है अब इस वायरस से हवा के ज़रिये भी...

लोक-पत्र संभाग- क्या लोकतंत्र का लोक अपने लोक की समस्या पढ़ना चाहेगा?

रवीश कुमार  1. सर बैंक से कृषि लोन लिया था जिसमे मात्र 7 प्रतिशत का व्याज लिया जाता है...

कांग्रेस ने PM मोदी पर तंज कशते हुए पूछा- ‘सेना अपने ही इलाक़े से क्यों पीछे हट रही है?’

नई दिल्ली: भारत–चीन के बीच सीमा विवाद में कल लद्दाख में चीनी सेना के साथ-साथ भारतीय सेना भी पीछे हटी, इसी मुद्दे...

पंजाब: बेअदबी कांड में डेरा प्रमुख गुरमीत राम रहीम मुख्य साजिशकर्ता, राजनीतिक दलों में हड़कंप

अमरीक गुरमीत राम रहीम सिंह का नाम अब नए विवाद में सामने आया है, श्री गुरु ग्रंथ साहिब बेअदबी...