Urdu

Epaper Urdu

YouTube

Facebook

Twitter

Mobile App

Home शख़्सियत जन्मदिन विशेषः कार मैकेनिक से साहित्य और फ़िल्म जगत की हस्ती बनने...

जन्मदिन विशेषः कार मैकेनिक से साहित्य और फ़िल्म जगत की हस्ती बनने वाले “गुलज़ार”

डॉक्टर प्रमोद पाहवा

18 अगस्त 1934 को पाकिस्तान के पंजाब के झेलम जिले के कस्बा दीना में जन्मे सम्पूर्ण सिंह कालरा को दुनिया ‘गुलज़ार’ के नाम से जानती है। गुलज़ार भी अविभाजित भारत की महान हस्तियों में से एक हैं जिन्हों विस्थापन का दर्द झेला है। गुलज़ार जब पाकिस्तान से भारत आए तब उनकी उम्र आठ साल थी, इसके बाद वे 2015 में पाकिस्तान अपने गांव गए, अपने घर गए, गुलज़ार ने अपने ‘गांव’ को याद करते हुए मुंबई से प्रकाशित होने वाले एक अख़बार को इंटरव्यू में अपनी भावनाओं को बताया था। जिसे यहां प्रकाशित किया जा रहा है।

देश दुनिया की अहम खबरें अब सीधे आप के स्मार्टफोन पर TheHindNews Android App

आठ बरस का था जब निकला था वहां से और 78 बरस का था जब गया वापस। 70 साल के बाद आप जब दोबारा उस जगह जाते हैं, वो घर वहां पाते हैं, वो गली वहां पाते हैं, वो स्कूल देखते हैं। बहुत ही भावनात्मक अनुभव होता है ये। उस समय में मेरा कुछ पल अकेले रहने का मन था। लेकिन जब लोग आपको जानते हों तो ये बाधा भी बन जाती है। इतनी बड़ी भीड़ वहां आपके साथ गली में खड़ी है अगर वो हटेगी तब तो गली देख पाएंगे पूरी।

वो छोटी सी एक गली है, दूर तक जाती है। कुछ दूर तक आगे गया भी उस गली में। पलहे वो गली जहां खुलती थी, उसके आगे खेत ही खेत थे। मेरे बचपन की ये तस्वीर है ज़हन में। अब वहां दीवार बना दी है। मेरी गली के आगे बिल्डिंगें बन गईं… मैंने कहा कि इसके पीछे तो खेत थे, तो बोला वो जी, अब वहां बिल्डिंगें बन गई हैं। वहां से पीछे मुड़ के गली पूरी देखने की कोशिश की पर फिर भीड़ की वजह से नहीं देख पाया। इसमें बंद सा होने लग गया मैं खुद में।

लोग लेकिन बहुत अच्छे थे। घर खोल के दिया उन्होंने, पर्दादार। औरतें पर्दे में चली गईं पर मुझे घर अंदर से देखने दिया। कुछ बुज़ुर्ग वहां मिले, बहुत बूढे़ थे। एक मेरे बड़े भाई को जानते थे, एक को बहन का नाम पता था और एक को मेरी मां का नाम भी याद था। एक बुज़ुर्ग तो मामा को भी जानते थे, पूछे कहां हैं मामा आज कल। उन लोगों से अपने रिश्तेदारों के बारे में सुना, जिनके बारे में हम भी अब नहीं जानते कि वहां (पाकिस्तान) से आने के बाद वो कहां जाकर बसे।

एक ने पंजाबी में हंसकर बोला, “तेरा बाप आता था तो किराए के पांच रुपए लेता था, अब मालिक मकान तू आया है तो पांच रुपए ले जा”। ये सब देख-सुनकर मैं बस अकेले बैठकर कहीं रोना चाहता था, पर लोगों की भीड़ ही भीड़। मैंने वो रेलवे स्टेशन भी देखा जहां मैं सुबह जाया करता था। तेरा बाप आता था तो किराए के पांच रुपए लेता था, अब मालिक मकान तू आया है तो पांच रुपए ले जा। गुलज़ार से एक बुज़ुर्ग ने कहा.

(लेखक वरिष्ठ पत्रकार हैं, और 2015 में गुलज़ार के साथ उनके गांव दीना गए थे।)

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Must Read

अमेरिका ने किया WHO से हटने का ऐलान, राष्ट्रपति उम्मीदवार बाइडन ने किया विरोध

नई दिल्ली: कोरोना महामारी के बीच अमेरिका विश्व स्वास्थ्य संगठन छोड़ रहा है, वह अपने फैसले पर पुनर्विचार करने को तैयार नहीं...

WHO ने भी माना- ‘कोरोना का हो सकता है हवा से संक्रमण, मिले हैं सबूत’

नई दिल्ली:  कोरोना वायरस का खतरा दिन प्रतिदिन दुनिया में बढता जा रहा है अब इस वायरस से हवा के ज़रिये भी...

लोक-पत्र संभाग- क्या लोकतंत्र का लोक अपने लोक की समस्या पढ़ना चाहेगा?

रवीश कुमार  1. सर बैंक से कृषि लोन लिया था जिसमे मात्र 7 प्रतिशत का व्याज लिया जाता है...

कांग्रेस ने PM मोदी पर तंज कशते हुए पूछा- ‘सेना अपने ही इलाक़े से क्यों पीछे हट रही है?’

नई दिल्ली: भारत–चीन के बीच सीमा विवाद में कल लद्दाख में चीनी सेना के साथ-साथ भारतीय सेना भी पीछे हटी, इसी मुद्दे...

पंजाब: बेअदबी कांड में डेरा प्रमुख गुरमीत राम रहीम मुख्य साजिशकर्ता, राजनीतिक दलों में हड़कंप

अमरीक गुरमीत राम रहीम सिंह का नाम अब नए विवाद में सामने आया है, श्री गुरु ग्रंथ साहिब बेअदबी...