लखनऊः किसान दिवस के मौके पर उत्तर प्रदेश कांग्रेस ने ‘किसान स्वाभिमान महापंचायत’ का आयोजन किसर जिसमें कई नेता और किसान शामिल हुये। पार्टी मुख्यालय पर संपन्न महापंचायत की अध्यक्षता प्रदेश अध्यक्ष अजय कुमार लल्लू ने की। उन्होने कहा कि केन्द्र सरकार द्वारा लाये गये किसान विरोधी तीनों काले कृषि कानूनों को लेकर श्री राहुल गांधी ने आवाज उठायी तो किसान संगठनों ने उनकी आवाज में आवाज मिलायी। उन्होने कई प्रदेशों का दौरा किया और सरकार ने उन्हें रोकने का प्रयास किया। किसान आज आत्महत्या कर रहा है। भाजपा सरकार कहती थी कि किसानों की आय दुगुनी करेंगे और स्वामीनाथन आयोग की रिपोर्ट को लागू करेंगे।

पूर्व सांसद प्रमोद तिवारी ने कहा कि आजादी से पहले भी अंग्रेजों द्वारा तीन काले कानून किसानों पर थोपे गये थे, उस समय भी किसानों के आन्दोलन का नेतृत्व जागरूक सरदार बिरादरी के लोगों ने किया था और शहीदे आजम सरकार भगत सिंह के पिता ने किया था। भाजपा अपने चंद पूंजीपतियों मित्रों को लाभ पहुंचाने के लिए जो किसान विरोधी काले कानून लायी है उसे कांग्रेस वापस लेने के लिये किसानों के साथ पूरी ताकत के साथ संघर्ष करेगी।

देश दुनिया की अहम खबरें अब सीधे आप के स्मार्टफोन पर TheHindNews Android App

कांग्रेस विधान परिषद दल के नेता दीपक सिंह ने कहा कि आज किसान को न तो उसके उपज का उचित मूल्य मिल रहा है और न ही उसकी लागत निकल पा रही है। भाजपा ने किसानों को दुगुनी आय का झांसा दिया और आज किसान दुगुनी आय को कौन कहे, आर्थिक तंगी के चलते आत्महत्या करने के लिए विवश हो रहा है। कांग्रेस विधानमंडल दल की नेता आराधना मिश्रा‘मोना’ ने कहा कि कांग्रेस पार्टी प्रियंका गांधी के नेतृत्व में किसानों के संघर्ष में सड़क से सदन तक संघर्ष करेगी। उन्होने कहा कि भाजपा को तीनों काले कृषि कानून वापस लेना होगा।

कार्यक्रम के आयोजक किसान कांग्रेस के अध्यक्ष तरूण पटेल ने कहा कि किसान कांग्रेस इस महापंचायत जो प्रस्ताव पारित हुए हैं चाहे वह अन्ना पशुओं की समस्या, गौशालाओं की दुर्दशा, तीनों काले कृषि कानूनों का विरोध सहित किसानों की समस्याओं को लेकर निरन्तर गांव गली, खेल खलिहान तक किसानों के बीच पहुंचकर उनकी समस्याओं के निदान के लिये संघर्ष करेगी।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here